बाढ़ पीड़ितों के लिए बोरियां ढो रहे हैं आईएएस अफसर: Kerala flood 2018

17 August 2018

नई दिल्ली। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को नौकरशाह भी कहा जाता है। नौकरशाह यानि नौकरों से काम कराने वाला 'शाह' लेकिन केरला में 2 नौकरशाह, नौकरों की तरह काम कर रहे हैं। आपातकाल की स्थिति में उन्होंने अपना रुतबा और ठसक छोड़, पीड़ितों की मदद को प्राथमिकता दी है। सोशल मीडिया पर दोनों को केरला का हीरो कहा जा रहा है। 

तस्वीर में देखा जा सकता है कि वो चावल की बोरियां अपने कंधों पर रखकर सहायता कैंप में पहुंचा रहे हैं। दूसरी तरफ सेना और इमरजेंसी फर्म बाढ़ में फंसे लोगों की सहायता में लगे हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा के इस अधिकारी का नाम जी. राजामनीकियम है जो आपदा प्रबंधन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और सब कलेक्टर एनएसके उमेश, आईएएस जो कंधों पर चावल की बोरी रखे हैं। ये दो लोग हीरो बन चुके हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, पूरी दिन काम करने के बाद लोग रात को आराम कर रहे थे लेकिन रात 9:30 बजे रिलीफ मटेरियल से भरा मिनिट्रक आ गया। तो अफसरों ने बोरियां उठाना शुरू कर दिया। IAS Association ने इनके लिए लिखा है Setting an example! G Rajamanikyam IAS & NSK Umesh IAS Sub-Collector, Wayanad unloading rice bags at Collectorate, Wayanad for distribution to Relief Camps. Joined hands with other employees, at around 9.30 pm unload a vehicle full of rice bags.
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week