आषाढ़ की गुप्त नवरात्रि: पूजा विधि एवं मुहूर्त | religious Gupt Navratri Muhurt

06 July 2018

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकम तिथि के साथ 14 जुलाई को गुप्त नवरात्र प्रारंभ होने जा रहे हैं। इस बार नवरात्र में पुष्य नक्षत्र के साथ ही सर्वार्थ सिद्धि योग भी रहेगा। क्योंकि नवरात्र की शुरुआत जहां पुष्य नक्षत्र में होगी, वहीं 21 जुलाई को सर्वार्थ सिद्धि योग, रवियोग व अमृत सिद्धि योग में नवरात्र का समापन होगा। सभी शुभ योग होने के कारण इस बार नवरात्र पर विशेष पूजा-अर्चना करने से विशेष फल की प्राप्ति की जा सकती है।

इस साल एकम व दूज एक साथ पड़ने के कारण नवरात्र महोत्सव 8 दिवसीय रहेगा। हालांकि गुप्त नवरात्र का महत्व आम लोगों की अपेक्षा साधु-संत व तांत्रिकों के लिए अधिक माना जाता है, क्योंकि गुप्त नवरात्र तंत्र साधना के लिए अहम होते हैं। इन दिनों में साधु संतों व तात्रिकों द्वारा मां भवानी की विशेष आराधना की जाती है। सिद्धि प्राप्त करने के लिए साधुओं द्वारा दिन रात हवन आदि किए जाते हैं। हालांकि साधुओं की यह तंत्र साधना सार्वजनिक न होकर एकांत में की जाती है।

चामुंडा दरबार के पुजारी पं. रामजीवन दुबे ने बताया कि शास्त्रानुसार साल में चार नवरात्र मनाई जाती हैं। लेकिन चार में से 2 नवरात्र गुप्त रहती हैं एवं दो प्रगट। गुप्त नवरात्र में सार्वजनिक तौर पर पूजा-अर्जना उस तरह नहीं की जाती जैसे प्रगट नवरात्र में होती है। अश्विन एवं चैत्र में प्रगट नवरात्र महोत्सव मनाया जाता है, वहीं आषाढ़ और माघ माह में गुप्त नवरात्र मनाई जाती है। चारों नवरात्र शुक्ल पक्ष में एकम से नवमी तिथि तक रहती हैं। आषाढ़ एवं माघ की नवरात्र में विवाह आदि मांगलिक कार्य शुभकारी माने जाते हैं। पं. पं. दुबे ने बताया कि मनोकामना पूर्ति के लिए ग्रहस्थ लोग भी मां का व्रत गुप्त नवरात्र में रखते हैं।

पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ समय
स्थिर लगन सुबह 7.49 से 10.01 बजे तक सिंह, दिन 2.27 से 4.44 बजे तक वृश्चिक, रात 8.36 से 10.09 बजे तक कुंभ।

चौघड़िया अनुसार
सुबह 7.30 से 9 बजे तक शुभ, दोपहर 12 से 1.30 बजे तक चर, 1.30 से 3.00 बजे तक लाभ, दिन 3.00 से 4.30 तक अमृत व गोधूलि वेला में सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त शाम 6 से 7.30 तक लाभ में रहेगा।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->