Loading...

BJP ने किया 'BLACK DAY' मनाने का फैसला

BHOPAL: बीजेपी पूरी रणनीति के साथ इस बार इमरजेंसी के खिलाफ मैदान पर उतरने की तैयारी में है, 1975 में 25 मई के बाद से ही राष्ट्रपति फखरुद्दीन के हस्ताक्षर के बाद देश में आपातकाल लागू किया गया था. आपातकाल के दौरान 26 जून की सुबह तक जयप्रकाश नारायण, मोरारजी देसाई समेत तमाम बड़े नेता गिरफ्तार कर लिए गए थे. भारतीय जनता पार्टी ने 25 जून को 'ब्लैक डे' मनाने का फैसला किया है, बीजेपी इसके बहाने कांग्रेस को घेरने की तैयारी में है. 

दरअसल बीजेपी 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा लागू किए गए इमरजेंसी के विरोध में ब्लैक डे मनाने जा रही है. इसके बाद 26 जून को बीजेपी एक साथ कांग्रेस के खिलाफ पूरे देश में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी, प्रेस कॉन्फेंस में कांग्रेस पर हमले की जिम्मेदारी बीजेपी के मंत्रियों पर होगी. जबकि 26 जून को अमित शाह गुजरात में प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे.

माना जा रहा है कि 25 जून को बीजेपी के ब्लैक डे में केंद्रीय मंत्रियों समेत पार्टी के सभी बड़े नेता हिस्सा लेंगे. गौरतलब है कि 1975 में 25 और 26 जून की रात ही तत्कालीन राष्ट्रपति ने आपातकाल के आदेश पर हस्ताक्षर किए थे और अगली सुबह इंदिरा गांधी ने पूरे देश में आपातकाल लागू करने की घोषणा कर दी थी.

इससे पहले भी बीजेपी आपातकाल के मुद्दे पर कांग्रेस को घेरती रही है. मालूम हो कि इंदिरा गांधी ने भारत में 25 जून 1975 से लेकर 21 मार्च 1977 तक आपातकाल लागू किया था. इस दौरान देश की राजनीति में बड़े बदलाव देखने को मिले थे.

आपातकाल के दौरान प्रेस की आजादी पर भी हमला हुआ था और राजधानी दिल्ली के बहादुर शाह जफर मार्ग स्थित अखबारों के दफ्तरों की बिजली काट दी गई थी. हालांकि उसके बाद भी कई अखबारों ने मुखर होकर आपातकाल का विरोध किया था.