कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए बीजेपी के पास हैं 5 पैंतरे - Bhopal Samachar | No 1 hindi news portal of central india (madhya pradesh)

Bhopal की ताज़ा ख़बर खोजें





कर्नाटक में सरकार बनाने के लिए बीजेपी के पास हैं 5 पैंतरे

19 May 2018

नई दिल्ली। कर्नाटक का फाइनल शो डाउन शुरू हो चुका है। बीती रात में ऐसा कोई अजब-गजब नहीं हुआ जिसका एक वर्ग को इंतजार था। आज शनिवार को शाम 4 बजे तक बीजेपी को बहुमत साबित करना है। येदियुरप्पा दावा कर चुके हैं कि उनके पास पूर्ण बहुमत है परंतु कांग्रेस की ओर से गुलाम नबी आजाद ने भी दावा किया है कि कर्नाटक की सरकार वो ही बनाएंगे। किसकी बात में कितना दम है शाम 4 बजे तक पता चल जाएगा। फिलहाल हम आपको बताने जा रहे हैं वो 5 पैंतरे जिनमें से किसी एक का उपयोग करके ही भाजपा सरकार बना सकती है। 

कर्नाटक में यदि बात करें विधायकों की संख्या की तो बीजेपी के पास 104 विधायक हैं और बहुमत के लिये 112 विधायक चाहिये। वहीं कांग्रेस के 78 और जेडीएस के 38 मिलाकर 116 विधायक हैं। इसके अलावा कांग्रेस का दावा है कि 2 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है। इन हालात में भाजपा के पास 5 विकल्प हो सकते हैं। यहां बताते चलें कि बीएस येदियुरप्पा सीएम के तौर पर अपना कोई भी कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए हैं। 

  1. बीजेपी के कहने पर अगर कांग्रेस और जेडीएस के विधायक वोटिंग के दौरान सदन में अनुपस्थित रहें या फिर उसके पक्ष में वोट कर दें। कांग्रेस और जेडीएस व्हीप जारी करेगी और तब अगर कोई विधायक अपनी पार्टी के खिलाफ जाकर बीजेपी के पक्ष में वोट करता है तो इससे उनकी सदस्यता जा सकती है।
  2. सदन में वोट गिने जाते हैं, यह नहीं कि व्हिप का उल्लंघन कर कहां वोट दिया। बीजेपी को वोट देने वालों के खिलाफ बाद में कार्रवाई होती रहेगी।
  3. बीजेपी को बहुमत के आंकड़े के पास लाने के लिए कांग्रेस और जेडीए के 15 विधायकों को इस्तीफा दिलवाना होगा। इस हालत में सदन के सदस्यों की कुल संख्या 222 से 208 हो जाएगी और इस आंकड़े पर बीजेपी आसानी से बहुमत पा जाएगी।
  4. कांग्रेस के पास 21 और जेडीएस के 10 लिंगायत विधायक हैं। बीएस येदियुरप्पा भी लिंगायत समुदाय के बड़े नेता हैं। अगर वह लिंगायत के नाम पर इन विधायकों को मनाने में कामयाब हो जाते हैं।
  5. बीजेपी अगर कांग्रेस और जेडीएस के दो तिहाई विधायकों को तोड़ ले जाने में कामयाब हो जाती है तो वह दल-बदल कानून से बच जाएगी। इसके लिए कांग्रेस के 52 और जेडीएस के 26 विधायकों को राजी करना होगा। हालांकि यह सबसे मुश्किल टारगेट है। 



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

;
Loading...

Popular News This Week

 
-->