मप्र के किसान की बेटी अब कलेक्टर बनेगी: तपस्या परिहार UPSC TOPPER | INSPIRATIONAL STORY

28 April 2018

इंदौर। मध्यप्रदेश में किसान आत्महत्याएं कर रहे हैं। मप्र में किसान आंदोलन कर रहे हैं लेकिन मप्र में किसान तमाम परेशानियों के बावजूद बेटियों को पढ़ने और आगे बढ़ने का मौका भी दे रहे हैं। भारतीय संघ लोक सेवा आयोग मुख्य परीक्षा के रिजल्ट में मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले की तपस्या परिहार ने देश में 23वीं रैंक पर कब्‍जा किया है। मध्‍यप्रदेश के सेलेक्‍टेड कैंडिडेट की लिस्‍ट में तपस्‍या ने टॉप किया है। तपस्या के पिता विश्वास परिहार मूल रूप से किसान हैं। तपस्‍या के संयुक्‍त फैमिली से आती हैं। उनके चाचा विनायक परिहार एक सोशलवर्कर हैं और तपस्‍या को उनका काफी सपोर्ट मिला। तपस्या की दादी देवकुंवर परिहार नरसिंहपुर जिला पंचायत की अध्यक्ष रही हैं। तपस्या का विषय लॉ था। तपस्‍या ने कानून की पढ़ाई पुणे के लॉ कॉलेज से की है।

आशुतोष ने सेल्फ स्टडी से पाई सफलता
ग्वालियर के आशुतोष श्रीवास्तव की 421वीं एवं आदित्य त्रिपाठी को 452वीं रैंक मिली है। परिजन बताते हैं कि आशुतोष श्रीवास्तव पर यूपीएससी की तैयारी का जुनून सर पर इस कदर हावी था कि भोपाल में डीएसपी की ट्रेनिंग के समय भी पढ़ाई जारी रखी। उन्होंने बताया कि जनवरी 2017 में हरदा में डीएसपी पद के लिए उनकी ज्वाॅनिंग हुई थी। यह उनका दूसरा अटैंप्ट था। जॉब के दौरान उन्हें 15 से 16 घंटे की ड्यूटी करनी होती थी। ऐसे में वे रोजाना पढ़ाई के लिए पांच घंटे ही देते थे। इसके अलावा रविवार को पूरे 15 घंटे तैयारी करते थे। उन्होंने बताया कि सेल्फ स्टडी करके भी यूपीएससी जैसी सेवा में सफलता हासिल कर सकते हैं। इसकी वजह है कि कोचिंग केवल मार्गदर्शन कर सकती हैं, लेकिन पढ़ाई आपको खुद करनी होती है। इसलिए सेल्फ स्टडी पर ज्यादा फोकस करना चाहिए।

वहम है कि 16 घंटे पढ़ना होता है: आदित्य
यूपीएससी सिविल सर्विसेज में ऑल इंडिया 452 रैंक पाने वाले आदित्य त्रिपाठी पेशे से सिविल इंजीनियर हैं। उन्होंने दिल्ली में इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दौरान ही सिविल सर्विसेज की तैयारी की और 23 वर्ष की उम्र में सेलेक्ट हो गए। उनका कहना है कि यह वहम है कि सिविल सर्विसेज में सफलता के लिए 15 से 16 घंटे पढ़ना जरूरी है। मैंने तो रोजाना 8 घंटे पढ़ाई करता था। यूपीएससी की तैयारी के दौरान सोशल मीडिया से दूरी बनाए रखी। उन्होंने युवाओं को संदेश देते हुए कहा कि यूपीएससी का जहां से भी सिलेबस मिले उसे पढ़ना चाहिए। साथ ही मॉक टेस्ट निरंतर देते रहें।

180 बनेंगे आईएएस
यूपीएससी के वेबसाइट पर शुक्रवार रात जारी नतीजों में कुल 990 उम्मीदवार सफल रहे। इसमें 476 उम्मीदवार सामान्य श्रेणी के हैं, 275 ओबीसी, 165 एससी और 74 एसटी श्रेणी के हैं। इनमें से 180 उम्मीदवारों का चयन आईएएस के लिए हुआ है। उल्लेखनीय है कि यूपीएससी मेन्स की परीक्षा 28 अक्टूबर, 2017 को हुई थी।

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week