हिंसा की आग में झुलस रहे बिहार के 4 जिले की ताजा स्थिति | NATIONAL NEWS

Friday, March 30, 2018

नवादा। बिहार में 14 दिनों में चार जिलों तक साम्प्रदायिक हिंसा फैल गई। शुरुआत 17 मार्च को भागलपुर में हुए उपद्रव से हुई थी। इसके बाद समस्तीपुर और शेखपुरा में दो समुदाय के लोगों में झड़प हुई। शुक्रवार को नवादा में एक धार्मिक स्थल को नुकसान पहुंचने के बाद उपद्रव हुआ। उपद्रवियों ने सड़क जाम किया और बस, ट्रक और अन्य गाड़ियों में तोड़फोड़ की। उग्र लोगों ने एक दुकान और बाइक को आग लगा दिया। मौके पर पहुंची पुलिस ने हवाई फायरिंग और लाठीचार्ज कर स्थित पर काबू पाया।

17 मार्च, भागलपुर

क्या हुआ था: भागलपुर के नाथनगर में संदेश यात्रा के दौरान नारा लगाने पर दो पक्षों में हिंसक झड़प हुई थी। दोनों तरफ से पहले पथराव हुआ फिर बम और गोली चली। एक दर्जन से ज्यादा लोग व पुलिसकर्मी जख्मी हुए। इस मामले में पुलिस ने केंद्रीय राज्य मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे अर्जित शाश्वत चौबे समेत 9 लोगों पर केस दर्ज किया। पुलिस अर्जित को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।
अभी क्या स्थिति: नाथनगर में स्थिति सामान्य है। बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात किया गया है।

27 मार्च, समस्तीपुर

क्या हुआ था:समस्तीपुर जिले के रोसड़ा में छत पर खड़े एक बच्चे की चप्पल जुलूस में चल रहे लोगों पर गिर गई थी। इसके बाद विवाद हुआ, जिसे स्थानीय लोगों ने सुलझा लिया। 27 मार्च को यह मामला फिर भड़क गया और सैकड़ों लोगों ने बवाल किया। मुख्य सड़क पर आगजनी की गई और जाम लगा दिया गया। पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। डीएम और एसपी ने 28 मार्च को पीस कमेटी की बैठक की।
अभी क्या स्थिति: रोसड़ा में तनाव है। पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के विरोध में दुकानें बंद कर दी गईं। पुलिस बल तैनात किया गया है।

28 मार्च, शेखपुरा

क्या हुआ था: शोभायात्रा के दौरान रूट की अनुमति नहीं मिलने पर लोग भड़क गए थे। बुधौली चौक पर उपद्रवियों और पुलिस के बीच झड़प हुई। 20 मिनट तक धक्का-मुक्की के बाद पुलिस ने फायरिंग की और फिर लाठीचार्ज कर दिया था। 43 के खिलाफ नामजद और 200 अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज किया गया।
अभी क्या स्थिति:शेखपुरा में अभी तनाव है। पुलिस बुधौली चौक समेत पूरे इलाके में लगातार गश्त कर रही है।

बिहार हिंसा पर किसने, क्या कहा
लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव ने कहा, "यह सब बीजेपी और आरएसएस की साजिश का नतीजा है। बीजेपी और आरएसएस के लोग दंगा भड़का रहे हैं। पिछले दिनों संघ प्रमुख मोहन भागवत 14 दिन के लिए बिहार आए थे। अब उनके आने का रिजल्ट सबके सामने आ रहा है।"

नवादा से बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने कहा, "बिहार हिंसा के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिम्मेदार हैं। कांग्रेस और राहुल साजिश के तहत सामाजिक समरसता को कमजोर कर हिंदुओं को बांटने का काम कर रहे हैं।"

जदयू प्रवक्ता डॉ. अजय आलोक ने कहा, "सांप्रदायिक तनाव बढ़ रहा है, लेकिन दंगे नहीं हो रहे हैं। प्रशासन एक्टिव है। सरकार अपना काम कर रही है। पिछले दस दिन से ट्रेंड देखकर लग रहा है कि यह सुनियोजित है। विपक्ष शुरू से इस काम में माहिर है। 15 साल के उनके शासन में बिहार ने इस बात को देखा है। लोगों से अपील है कि वे अफवाहों पर ध्यान न दें।"

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week