हर रोज 4 बैंक कर्मचारी धोखाधड़ी में पकड़े जाते हैं: रिपोर्ट | BANK FRAUD

18 February 2018

चेतन कुमार/बेंगलुरु। हर चार घंटे में औसतन एक बैंक कर्मचारी धोखाधड़ी जैसे मामलों में पकड़ा जाता है।  यानि प्रतिदिन औसत 4 कर्मचारी धोखाधड़ी और जालसाजी जैसे संगीन आरोपों में पकड़े जाते हैं। रिजर्व बैंक द्वारा तैयार किए गए एक डेटा के मुताबिक देश में हर चार घंटे में एक बैंकर को फ्रॉड में पकड़ा जाता है और सजा होती है। 1 जनवरी, 2015 से 31 मार्च, 2017 के बीच पब्लिक सेक्टर बैंकों के 5,200 कर्मचारियों को धोखाधड़ी के मामलों में सजा हुई है।

आरबीआई के डॉक्यूमेंट्स के अनुसार, 'फ्रॉड में पकड़े गए इन कर्मचारियों को दोषी पाया गया, पेनल्टी लगाई गई और सर्विस से निकाल भी दिया गया।' रिजर्व बैंक इस समय अप्रैल 2017 से लेकर अभी तक के मामलों का डेटा तैयार कर रहा है। पब्लिक सेक्टर बैंकों में सबसे ज्यादा फ्रॉड के मामलों में एसबीआई के कर्मचारी टॉप पर रहे। एसबीआई के 1,538 कर्मचारियों पर धोखाधड़ी के मामलों पर ऐक्शन हुआ। इसके बाद इंडियन ओवरसीज बैंक और फिर सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के कर्मचारियों ने सबसे ज्यादा फ्रॉड किया। एसबीआई में इन बैंकों की तुलना में तीन गुना अधिक कर्मचारी धोखाधड़ी में संलिप्त रहे। 

आरबीआई द्वारा जारी इस डेटा में यह नहीं बताया गया है कि कर्मचारियों के इन धोखाधड़ी के मामलों से बैंकों को कितना नुकसान हुआ। आरबीआई के एक पुराने डेटा के मुताबिक, 1 अप्रैल, 2013 से 31 दिसंबर, 2016 के बीच सभी कमर्शल बैंकों (निजी बैंकों सहित) को 1704 फ्रॉड के मामलों से 66 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ। फ्रॉड के कुल मामलों में बैंक कर्मचारी के मिले होने वाले मामलों की संख्या 2,084 है। यह कुल मामलों का 12 प्रतिशत है। हालांकि डेटा में यह नहीं बताया गया कि कर्मचारियों के फ्रॉड से बैंकों को कितना नुकसान हुआ। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week