आप इतिहास के ठेकेदार क्यों बन जाते हो: संजय लीला भंसाली ने कहा | NATIONAL NEWS

Advertisement

आप इतिहास के ठेकेदार क्यों बन जाते हो: संजय लीला भंसाली ने कहा | NATIONAL NEWS

मैं नहीं जानता कि ये कहां से शुरू हुआ। एक अफवाह के चलते मुझ पर फिजिकल अटैक हुआ। दुनिया में किसी भी निर्देशक पर इस तरह हमला नहीं हुआ होगा। आपने हमारे कैमरे तोड़ दिए, यूनिट के लोगों को मारा। मार की वजह से मेरी असिस्टेंट शैली और दूसरे सहायकों के हाथ नीले पड़ गए। अफवाह क्या थी? यही न कि खिलजी और पद्मावती के बीच कोई लव सीक्वेंस होगा। यह कहां से आया? रणवीर और दीपिका करीबी दोस्त हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि उनके बीच कोई लव सीन होगा। मैं ऐसा करता तो फिल्म की आत्मा मर जाती। फिल्म में खिलजी का किरदार ऐसा है कि वह जिस पद्मावती को चाहता है, वह उसे आखिरी तक देख भी नहीं पाता। यह अफवाह मनगढ़ंत थी। 

बेबुनियाद अफवाह को विरोध का आधार बनाकर उस पर पूरा आंदोलन खड़ा कर दिया गया। उनका अजेंडा क्या था, मुझे नहीं पता, मगर नैशनल न्यूज पर रोजाना बोलने का मौका मिलने पर कौन इसे हाथ से जाने देना चाहेगा? अगर आपको चार लोग सुनते हैं, तो आप मुद्दा बनाने से भी बाज नहीं आएंगे। मगर भाई, मैं तो आपकी ही बात कर रहा हूं। आपके गौरव की बात कर रहा हूं। अगर हम महाराष्ट्र में बाजीराव मस्तानी को रोक देते तो यहां का दर्शक उस शौर्यगाथा से हमेशा के लिए वंचित हो जाता। आप इतिहास के ठेकेदार क्यों बन जाते हो? 

अगर हम भुलाए गए इतिहास को पॉप्युलर आर्ट फॉर्म में दोहराते हैं तो दिक्कत क्या है? आप ऐतिहासिक फिल्म बनाने से लोगों को हतोत्साहित क्यों करते हो? हर ऐतिहासिक फिल्म पर आप अटैक करेंगे और कहेंगे कि हमने इतिहास को विकृत कर दिया। इतिहास कोई एक किताब नहीं है। इतिहास बदलता रहता है। एक इतिहासकार का अप्रोच अलग होता है, दूसरे का अलग लेकिन एक अफवाह के बल पर आप विरोध शुरू कर देते हो। 

हमने एक विडियो भी जारी करके सफाई दी कि ऐसा कुछ नहीं है, मगर आपने वह विडियो भी नहीं देखा। प्रोटेस्ट एक ऐसे मुद्दे के साथ खड़ा किया गया, जिसमें लोग फायदा उठाने लग गए। मुझे सबसे ज्यादा दुख इस बात का है कि जो एक साल की यातना और तकलीफ मैंने झेली, जिनके शौर्य को मैंने महिमामंडित किया, उसी राजस्थान ने फिल्म नहीं देखी। 
संजय लीला भंसाली
फिल्म मेकर (पद्मावत)