ट्रेन में अब नहीं चलेगी टीसी की दुकान, अपने आप कंफर्म हो जाएगी वेटिंग | national news

Thursday, December 21, 2017

नई दिल्ली। कहते हैं कि चलती ट्रेन का मालिक तो टीसी ही होता है। वो खाली सीट पर कितना धंधा करता है यह बताने की जरूरत नहीं क्योंकि अब तो रेल विभाग में भी ट्रेनें ठेके पर दी जाने लगीं हैं। टीसी को एक मुश्त रकम अपने वरिष्ठ अधिकारी को देनी होती है। स्वभाविक है, वो अवैध कमाई पर ही फोकस करता है परंतु इस सब में उस यात्री का हक मारा जाता है जो वेटिंग में है, क्योंकि खाली सीट पर पहला हक तो आरएसी या वेटिंग का ही है। परंतु अब ऐसा नहीं होगा। टीसी चलती ट्रेन में किसी को भी सीट आवंटित नहीं कर पाएंगे। अब रेलवे मंत्रालय द्वारा टिकट निरीक्षकों को हैंड हेल्ड सिस्टम दिए जाएंगे। किसी आम मोबाइल टैब की तरह दिखने वाले ये गैजेट सीधे तौर पर पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्टम (पीआरएस) से जुड़े होंगे। टीसी केवल अपने सिस्टम में यह दर्ज करेंगे कि बर्थ पर यात्री उपलब्ध था या नहीं। जैसे ही वो बताएंगे कि बर्थ रिक्त है, एक वेटिंग क्लीयर हो जाएगी। यात्री के पास एसएमएस आ जाएगा। 

क्या फायदा होगा
वर्तमान सिस्टम में यात्रा के दौरान टी.सी. सारी प्रक्रिया मैन्यूअल तरीके से करते हैं। एक बार ट्रेन चल पड़ी, फिर टी.सी. ही ट्रेन का मालिक होता है। ऐसे में यदि आरएसी टिकट कन्फर्म हुई या वेटिंग टिकट आरएसी हुई, तो बहुत कम चांस होता है आपको अपडेट मिले। हैंड हेल्ड सिस्टम आने के बाद इस तरह की दिक्कतें नहीं होंगी। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि मौजूदा सिस्टम में ट्रेन चलने के चार घंटे पहले पहला चार्ट बनता है, दो घंटे पहले दूसरा चार्ट। ये दोनों चार्ट बनने के बाद कोई अपडेट नहीं होता है। यदि किसी स्टेशन पर कोई यात्री किसी कारण से नहीं पहुंच पाता है, तो उसका भी अपडेट सिस्टम में नहीं होता है। ऐसे में टी.सी. उक्त सीट का कुछ भी कर सकता है। हैंड हेल्ड सिस्टम में टी.सी. को यात्री की उपस्थिति अपडेट करनी ही है, यदि नहीं करता है, तो वो पकड़ा जाएगा। ऐसे में सीट के असली हकदार यात्री के साथ भी न्याय होगा। 

सूत्रों के अनुसार रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र (क्रिस) द्वारा हैंड हेल्ड सिस्टम को पीआरएस से जोड़ने के लिए सिस्टम बनाया जा रहा है। इसके परीक्षण चल रहे हैं। परीक्षण सफल होने के बाद सभी रेलवे जोन के मुख्यालयों में सिस्टम भेज दिए जाएंगे। सिस्टम डिलिवर होने के बाद टिकट निरीक्षकों को ट्रेनिंग दी जाएगी। इनकी शुरुआत राजधानी, शताब्दी और तेजस जैसी मुख्य ट्रेनों से की जाएंगी। बाद में यह सिस्टम सभी ट्रेनों में लागू किया जाएगा। 

विमल जोशी नामक यात्री ने बताया'यात्रा के दौरान अक्सर सीट को लेकर टी.सी. से झगड़ होते हैं। आज तक पता नहीं चल पाया है कि यदि कोई यात्री सीट पर नहीं आता है, तो सीट किसे मिलनी चाहिए। इस तरह का सिस्टम लाने से यकीनन पारर्दिशता आएगी।' 

रेलवे सूचना प्रणाली केंद्र के एक अधिकारी ने बताया,'सिस्टम के परीक्षण चल रहे हैं। यात्रा के दौरान कनेक्टिविटी को लेकर चिंता है। कई बार नेटवर्क नहीं मिलने से समस्याएं आती हैं। किसी बड़े स्टेशन पर ट्रेन पहुंचते ही नेटवर्क में आने के कारण सिस्टम अपडेट हो जाएगा। टी.सी. जब एंट्री करेगा, तो यात्री को भी यात्रा के दौरान (वेटिंग लिस्ट या आरएसी) होने पर वास्तविक अपडेट मिलने लगेगा।' 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week