सागर में स्कूल टीचर की हत्या, इलाके में साम्प्रदायिक तनाव

Thursday, August 25, 2016

भोपाल। सागर जिले की शाहगढ़ तहसील में एक हिन्दू युवक की हत्या के बाद तनाव फैल गया। मामला एक प्रेम प्रसंग से जोड़कर देखा जा रहा है। मृत युवक दूसरे सम्प्रदाय की युवती से प्रेम करता था। लोगों ने दोनों को रंगेहाथों पकड़ लिया था। बुधवार को युवक लापता हो गया और गुरूवार को उसकी लाश मिली है। 

गुरुवार को सागर के मकरोनिया रेलवे स्टेशन के करीब 19 साल के अंकित भल्ला की बॉडी मिलने के बाद कस्बे में तनाव की स्थिति है। अंकित बुधवार से गायब था। गुरुवार को ही उसके परिजनों ने पुलिस थाने में उसकी गुमशुदगी का आवेदन दिया था। लड़की दूसरे समुदाय से ताल्लुक रखती है। लड़का शाहगढ़ के एक प्राइवेट स्कूल में टीचर था, वहां यह लड़की भी पढ़ाती है।

खाली मकान में पकड़े गए थे दोनों
सागर से करीब 70 किलोमीटर दूर स्थित शाहगढ़ में बुधवार को एक नाटकीय घटनाक्रम हुआ था। मृतक अंकित दोपहर को किसी जगदीश सोनी के खाली पड़े मकान में लड़की के साथ मौजूद था। तभी लड़की के परिजनों को इसकी भनक लग गई और देखते ही देखते वहां भीड़ जुट गई और हंगामा खड़ा हो गया। लोगों ने बाहर से कमरा बंद कर दिया। 

फिर लड़की ने छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराया
हालांकि बाद में लड़के के माफी मांगने के बाद उसे जाने दिया गया। इसी बीच शाम को लड़की ने परिजनों के साथ शाहगढ़ थाने में लड़के के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज करा दिया। कुछ देर बाद तीन लोग अंकित के घर पहुंचे और बोले कि उसे कॉलेज संचालक शाहिद खान ने बुलाया है। शाहिद के नाम पर अंकित के परिजनों ने उसे तीनों लोगों के साथ जाने से रोका नहीं लेकिन जब रात तक वो घर नहीं लौटा, तो परिजनों ने इसकी शिकायत थाने में की।

तीन लोग बुलाकर ले गए थे
लड़के के पिता कमलेश भल्ला जनपद पंचायत में बाबू हैं। परिजनों के मुताबिक, अंकित को तीन लोग लेकर गए थे। उसकी उन्हीं लोगों ने हत्या की है। हालांकि पुलिस ने तीनों को पूछताछ के लिए बैठा लिया है। मौके की नजाकत को समझते हुए एसडीओपी सुरेंद्र उइके और एएसपी पंकज पांडे पुलिस बल के साथ शाहगढ़ पहुंच गए थे।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें

mgid

Loading...

Popular News This Week

 
Copyright © 2015 Bhopal Samachar
Distributed By My Blogger Themes | Design By Herdiansyah Hamzah