सांसद सिंधिया को छात्र संवाद के लिए बुलाने वाला COLLEGE प्रिंसिपल सस्पेंड

Thursday, October 12, 2017

अशोकनगर। उच्च शिक्षा विभाग ने गणेश शंकर विद्यार्थी कॉलेज, मुंगावली के प्रिंसिपल बीएल अहिरवार को सस्पेंड कर दिया है। उनका गुनाह यह है कि उन्होंने सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को कॉलेज में छात्र संवाद के लिए आमंत्रित किया। सांसद सिंधिया ने कॉलेज को 3 लाख रुपए की निधि भी दी परंतु विभाग का मानना है कि यह एक राजनीतिक कार्यक्रम था। उच्च शिक्षा विभाग ने निलंबन आदेश में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया है कि प्राचार्य ने कॉलेज में किसी दल विशेष के होर्डिंग लगवाए और छात्रों को पैसों का प्रलोभन देकर किसी विशेष दल को वोट देने के लिए दबाव डाला। इन वजहों से प्राचार्य को निलंबित किया जाता है। निलंबन के दौरान प्राचार्य का मुख्यालय शहडोल कॉलेज रहेगा।

ज्ञात हो कि सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मंगलवार को मुंगावली महाविद्यालय में पहुंचकर छात्रों से सीधा संवाद किया था। मंच पर सिंधिया के साथ कॉलेज के प्राचार्य भी मौजूद थे। इस कार्यक्रम में सिंधिया ने अपनी सांसद निधि से मुंगावली महाविद्यालय के छात्रों की मांग पर तीन लाख रूपए की राशि फर्नीचर व अन्य कार्याें के लिए देने की घोषणा की थी। इस कार्यक्रम में सिंधिया ने सरकार पर व्यापमं के बहाने सवाल भी उठाए थे। कार्यक्रम के 24 घंटे के भीतर उच्च शिक्षा विभाग ने प्राचार्य का निलंबन आदेश जारी कर दिया। 

उपसचिव ने निलंबन आदेश में लिखा
मुंगावली के गणेश शंकर विद्यार्थी कॉलेज में प्राचार्य ने राजनीतिक दल के चुनाव चिन्ह् वाले बैनर लगवाए। 
कार्यक्रम में राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं का जमावड़ा किया गया। 
महाविद्यालय के विद्यार्थियों को पैसों का प्रलोभन देकर किसी राजनीतिक दल को वोट देने की सिफारिश की।
दलगत राजनीति में लिप्त होकर कार्य करने और शैक्षणिक वातावरण के खिलाफ गतिविधियां संचालित कराई गई। 

मुझे तो बेवजह बलि का बकरा बनाया
मुझे बेवजह बली का बकरा बनाया गया है। एक तरफ कहा जाता है कि जनप्रतिनिधियों को शैक्षणिक संस्थानों में क्यों नहीं बुलाया जाता, जब बुलाते हैं तो कार्रवाई की जाती है। सांसद तो प्रोटोकाल की श्रेणी में आते हैं। सांसद ने कॉलेज के लिए तीन लाख रूपए की निधि मंजूर की है। मैंने कार्यक्रम में ऐसा कुछ नहीं कहा जो गलत हो। इस तरह एकतरफा कार्रवाई करना न तो उचित है और न ही न्यायसंगत। मेरे पास मुंगावली के अलावा चंदेरी महाविद्यालय का भी प्रभार है। पूरी ईमानदारी से कार्य कर रहा था, उसके बाद भी इस तरह की कार्रवाई विचलित करती है। मेरे खिलाफ नियम विरूद्ध तरीके से निलंबन की कार्रवाई की गई है। 
बीएल अहिरवार, प्राचार्य, 
गणेश शंकर विद्यार्थी कॉलेज, मुंगावली

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं