लोग रावण जला रहे थे, सरकार ने रसोई गैस के दाम भड़का दिए

Tuesday, October 3, 2017

भोपाल। जिस वक्त लोग बुराई के प्रतीक रावण को जलाने की खुशियां मना रहे थे, सरकार ने उनकी रसोई गैस को महंगाई की आग में झौंक दिया। तेल कंपनियों ने एलपीजी, आटो एलपीजी ईंधन और विमान ईंधन एटीएफ के मूल्य में बढ़ोतरी की है। रसोई गैस के दाम जहां 52.50 रुपए प्रति सिलेंडर बढ़ाए गए हैं। इंडियन आॅयल कॉपोर्रेशन ने नए मूल्यों की जानकारी दी है। सरकार ने एलपीजी पर सब्सिडी समाप्त करने के लिए हर महीने इसकी कीमतों में बढ़ोतरी का फैसला किया है। आईओसी ने कहा कि भोपाल में 14.2 किलोग्राम के एलपीजी सिलेंडर का दाम अब 640.50 रुपए होगा। अभी तक यह 588 रुपए का था।

त्यौहार पर 50% गिरी सोने की बिक्री
गोल्ड की बिक्री इस साल नवरात्रि और दशहरा पर 50 प्रतिशत कम रही। सरकार ने 50,000 रुपए और इससे अधिक का सोना खरीदने पर केवाईसी को अनिवार्य कर दिया है। इसलिए इस साल दशहरा के मौके पर मोटी खरीदारी करने वाले लोग बाजार से दूर रहे। बैंकरों और ज्वैलर्स ने बताया कि ग्राहक कंप्लायंस की वजह से दूसरी चीजें खरीद रहे हैं।

रेरा के कारण काली हो गई रियल एस्टेट की दीवाली
राजधानी सहित प्रदेश के इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर जैसे बडे शहरों में रियल एस्टेट कारोबार बंद सा नजर आ रहा है। बिल्डर्स की मानें तो नवरात्र में हर साल जैसा बिजनेस नहीं हुआ और अगर यही हाल रहा तो दीपावली का बिजनेस भी दांव पर लगा हुआ है। इन सबका कारण (एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी) रेरा में रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाना है। जब तक रजिस्ट्रेशन नहीं हो जाता, तब तक न तो बिल्डर्स अपनी प्रापर्टी बेच सकते हैं और न ही उनका प्रचार-प्रसार कर सकते हैं। अकेले भोपाल में ही सैकड़ों प्रोजेक्ट फंसे पड़े हैं। रेरा में रजिस्ट्रेशन के लिए अब तक 1000 के आसपास पंजीयन अटके पड़े हैं। पिछले दो माह में लगभग 700 पंजीयन हुए हैं। यही कारण  है फेस्टीवल सीजन होने के बाद भी  प्रापर्टी नहीं बिक पा रही है।  जब तक कि प्रोजेक्ट्स का पंजीयन नहीं हो जाता, तब तक बिल्डर्स प्रचार-प्रसार नहीं सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week