देश छोड़कर जा सकते हैं BCCI से नाराज क्रिकेटर श्रीसंत

Friday, October 20, 2017

बैन के मामले में बीसीसीआई के रुख से नाराज क्रिकेटर शांताकुमारन श्रीसंत देश छोड़ सकते हैं। अब वो किसी दूसरे देश की टीम से क्रिकेट खेलने की योजना बना रहे हैं। श्रीसंत ने कहा है कि चूंकि बीसीसीआई एक 'प्राइवेट फर्म' है, ऐसे में वो किसी दूसरे देश के लिए क्रिकेट खेलने के लिए स्वतंत्र हैं। हालांकि उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया है कि यदि किसी दूसरे देश ने उन्हे आमंत्रित किया तो क्या वो भारत की नागरिकता भी छोड़ देंगे। 

इंडियन प्रीमियर लीग 2013 में स्पॉट फिक्सिंग के आरोप में उन पर आजीवन बैन लगा दिया गया था। 18 सितंबर 2017 को कोर्ट ने उन्हें इस आरोप से बरी कर दिया था, लेकिन बीसीसीआई ने फैसले के खिलाफ याचिका फाइल की। इसी के चलते 17 अक्टूबर को केरल हाईकोर्ट की डिविजन बेंच ने बैन को बरकरार रखा है। 

एशियानेट न्यूज को दिए एक इंटरव्यू में श्रीसंत ने इस बात का संकेत दिया कि वो अपना बाकी बचा करियर किसी और देश की तरफ से क्रिकेट खेलकर बिताना चाहते हैं। मुझे बीसीसीआई ने बैन किया है, आईसीसी ने नहीं। अगर भारत नहीं, तो मैं किसी दूसरे देश के लिए क्रिकेट खेल सकता हूं। मैं 34 साल का हो चुका हूं और अब ज्यादा से ज्यादा 6 साल और क्रिकेट खेल सकता हूं। एक क्रिकेटप्रेमी होने के नाते मैं खेलना चाहता हूं। बीसीसीआई एक प्राइवेट फर्म है, ये हम हैं जो इसे भारतीय क्रिकेट टीम कहते हैं, लेकिन आखिरकार बीसीसीआई है तो एक प्राइवेट बॉडी। 

हां, रणजी ट्रोफी में केरल को रिप्रेजेंट करना एक दूसरी बात है। मुझे उम्मीद थी कि मैं केरल को रणजी और ईरानी ट्रॉफी जीतने में मदद करूंगा, लेकिन ये फैसला बीसीसीआई के हाथ में है। शांताकुमारन श्रीसंत

फैसले से निराश श्रीसंत
कोर्ट के फैसले के बाद श्रीसंत ने ट्वीट कर इसे 'सबसे खराब फैसला' बताया था। 34 साल के इस तेज गेंदबाज ने कहा था कि चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के मालिक भ्रष्टाचार के आरोप में दोषी पाए गए थे, लेकिन दो साल के बैन के बाद इन दोनों टीमों की वापसी हो रही है। उन्होंने पूछा कि जब लोढ़ा पैनल ने फिक्सिंग मामले से जुड़े 13 नाम सुप्रीम कोर्ट को सौंपे थे, तो फिर आखिर उन्हें ही क्यों निशाना बनाया जा रहा है? श्रीसंत के पास सिर्फ हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देने का रास्ता बाकी है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week