अब JHABUA के कलेक्टर/एसपी RSS के निशाने पर - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

अब JHABUA के कलेक्टर/एसपी RSS के निशाने पर

Wednesday, October 19, 2016

;
भोपाल। बालाघाट में धधकी आग के शोले अभी शांत नहीं हुए थे कि झाबुआ के पेटलावद में भी आरएसएस के स्वयंसेवक कलेक्टर/एसपी के खिलाफ लामबंद हो गए हैं। हालांकि इस बार शिवराज सरकार दवाब में फटाफट कार्रवाई नहीं कर रही परंतु प्रक्रिया के नाम पर जो कुछ भी हो रहा है, सब आरएसएस के गुस्साए नेताओं को खुश करने के लिए ही किया जा रहा है। भाजपा के 2 सांसदों ने सीएम के आदेश पर जांच की। स्वभाविक था कि जांच रिपोर्ट वैसी ही आई जैसी आरएसएस नेता चाहते थे। सांसदों ने कलेक्टर आशीष सक्सेना और एसपी संजय तिवारी को दोषी मानते हुए हटाने की सिफारिश की है। 

मुहर्रम की रात में पेटलावद में हुए दंगों के बाद पुलिस ने कई लोगों को गिरफ्तार किया था। दोनों तरफ से करीब 400 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। पुलिस की इस कार्यवाही को आरएसएस ने एक तरफा बताते हुए जांच की मांग की थी। इस मांग पर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष नंद कुमार सिंह चौहान ने खरगौन सांसद सुभाष पटेल और मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता को मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंपने का कहा था। 

दोनों सांसद रविवार को झाबुआ पहुंचे। सुधीर गुप्ता पेटवावद गए, जहां पर उन्होंने सौ से अधिक लोगों से बात की। वहीं सुभाष पटेल झाबुआ गए, जहां पर उन्होंने जेल में बंद आरोपियों से मुलाकात की। साथ ही भाजपा जिला अध्यक्ष, कलेक्टर और एसपी से भी चर्चा की। यह रिपोर्ट सोमवार को मुख्यमंत्री और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष को सौंपी गई है। 

सूत्रों की मानी जाए तो रिपोर्ट में बताया गया है कि मुहर्रम की रात में 6 लोगों को पुलिस दरवाजा तोड़कर उन्हें बेडरूम से उठाकर ले आई। उन्हें घसीटते हुए मंडी तक ले गई। यहां पर एडीओपी पेटलावद राजेश व्यास और चालीस से अधिक पुलिसकर्मियों ने इन 6 लोगों को घेरकर मारा। सांसद सुभाष पटेल ने जेल में जाकर सभी 6 लोगों से मिले। रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि पुलिस ने पहले रिपोर्ट दर्ज की। इसके बाद इनके साथ बबर्रता पूर्वक मारपीट की।

दोनों अफसरों को तत्काल हटाया जाए
जांच में यह भी पाया कि कलेक्टर और एसपी इस घटना को गंभीरता से नहीं ले रहे थे। दोनों अफसरों को हटाने की मांग की गई है। दोनों अफसर इस बबर्रता को दबाने का प्रयास कर रहे हैं। दोनों मारपीट की घटना से मना कर रहे हैं। जबकि इसमें एसपी और कलेक्टर की भी गलती है। वे मामले पर तत्काल सक्रिय नहीं हुए।
;

No comments:

Popular News This Week