हर मर्ज की दवा, शिक्षक - क्लिक करें | No 1 Hindi News Portal of Central India (Madhya Pradesh) | हिन्दी समाचार

हर मर्ज की दवा, शिक्षक

Saturday, October 15, 2016

;
राकेश दुबे@प्रतिदिन। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड, यानी सीबीएसई को यह निर्देश जारी किये हैं कि निजी स्कूलों में भी अध्यापकों से सिर्फ पढ़ाने का काम लिया जाए, कोई अन्य काम नहीं। बोर्ड ने यह निर्देश निजी स्कूलों के लिए जारी किया है, जहां यह समस्या सबसे ज्यादा है। सच यही है कि इन स्कूलों के अध्यापकों को पढ़ाने के अलावा ढेर सारे दूसरे काम करने पड़ते हैं। क्लास टीचरों को बच्चो की फीस जमा करने से लेकर उनकी छुट्टियों का हिसाब-किताब रखने तक के कई काम सौंप दिए जाते हैं। साथ ही उन्हें हर बच्चे के सारे ब्योरे की फाइल भी बनाकर रखनी होती है। 

सुबह स्कूल शुरू होते ही वे बच्चों की वर्दी चेक करते हैं, तो दोपहर छुट्टी होने पर उन्हें बस की लाइन में लगाने और यहां तक कि बस के साथ जाने जैसे काम सौंपे जाते हैं। उन्हें परिसर की सफाई की निगरानी भी रखनी होती है, तो परिसर में लगे पेड़-पौधों के रखरखाव की भी। ये सारे वे काम हैं, जो अध्यापकों के नहीं हैं, मगर उन्हें करने ही पड़ते हैं।

यह सिर्फ निजी स्कूलों की समस्या नहीं है। हाल-फिलहाल तक सभी अध्यापकों को चुनाव के समय पढ़ाने-लिखाने का काम काम छोड़ चुनावी ड्यूटी निभानी पड़ती थी। वे इससे इनकार भी नहीं कर सकते थे। आम चुनाव हो या विधानसभा चुनाव, या फिर विधान परिषद, नगर पालिका, ब्लॉक प्रमुख या ग्राम पंचायत के चुनाव, ऐसा कोई भी अनुष्ठान अध्यापकों से ‘बेगारी’ करवाए बिना पूरा नहीं होता था। पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद केंद्र सरकार ने कहा है कि वह अब अध्यापकों को चुनाव ड्यूटी पर नहीं लगाएगी, पर  चुनाव की ड्यूटी अकेला ऐसा काम नहीं, जो अध्यापकों को मजबूरन करना पड़ता है। 

जनगणना का काम भी उनकी सेवा लिए बिना संपन्न नहीं हो पाता है। जनगणना हर दस साल बाद होती है और पहली से दसवीं कक्षा तक के हर बच्चे के जीवन में एक ऐसा साल जरूर आता है, जब उसके अध्यापक उसे सिर्फ इसीलिए कम पढ़ा पाते हैं कि वे जनगणना के काम में लगे थे। ग्रामीण स्तर पर पढ़ाने वाले अध्यापकों को तो कई तरह के सर्वे आदि में भी शामिल किया जाता है, इसके अलावा उन्हें पंचायत के भी बहुत सारे काम करने पड़ते हैं। अध्यापक अच्छा अध्यापन करें, हमारी व्यवस्था की उनसे अपेक्षाएं इससे कहीं अधिक की होती हैं।शिक्षकों को अच्छे दर्जे के पेशेवर न मानने का नतीजा है कि एक तरफ तो इससे शिक्षा का स्तर गिरा है और दूसरी तरफ यह धारणा बनी है कि उन्हें मजदूरों की तरह किसी भी काम में लगाया जा सकता है।
श्री राकेश दुबे वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं।        
संपर्क  9425022703        
rakeshdubeyrsa@gmail.com
पूर्व में प्रकाशित लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए
आप हमें ट्विटर और फ़ेसबुक पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
;

No comments:

Popular News This Week