कल का मौसम - 9 राज्यों में घनघोर बारिश होगी, पढ़िए मानसून कहां है और आपके यहां कब तक आएगा

भारत मौसम विज्ञान विभाग ने भारत के नौ राज्यों के लिए घनघोर बारिश का रेड और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। अगले 4 दिनों में यहां इतनी बारिश होगी कि आम जनजीवन प्रभावित हो जाएगा। पर्यटक फंस जाएंगे और कुछ हादसे भी देखने को मिल सकते हैं। इसके अलावा मानसून की लेटेस्ट लोकेशन जारी कर दी गई है। आप अनुमान लगा सकते हैं कि आपके राज्य से या आपके गांव से फिलहाल मानसून कितनी दूरी पर है। 

मानसून की लेटेस्ट लोकेशन और पूर्वानुमान 

मानसून की उत्तरी सीमा 20.5° उत्तर/60° पूर्व, 20.5 उत्तर/63° पूर्व, 20.5° उत्तर/70° पूर्व नवसारी, जलगांव, अमरावती, चंद्रपुर, बीजापुर, सुकमा, मल्कानगिरी, विजयनगरम, 19.5° उत्तर से होकर गुजरती रहती है। /88°पूर्व,21.5°N/89.5°E, 23°N/89.5°E और इस्लामपुर। अगले 4-5 दिनों के दौरान दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, ओडिशा, के कुछ और तटीय आंध्र प्रदेश और उत्तर-पश्चिमी बंगाल की खाड़ी, गंगीय पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्से, उप हिमालयी पश्चिम बंगाल के शेष हिस्से और बिहार के कुछ  हिस्सों में आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियाँ अनुकूल हैं। 

आपके गांव में मानसून कब आएगा सरल हिंदी में समझिए

अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों का कहना है कि एल नीनो/ला नीना समुद्र में होने वाली दो ऐसी घटनाएं हैं जो भारत में मानसून को प्रभावित करती हैं। इनमें से एल नीनो को आप भारतीय मानसून का दुश्मन और ला नीना को भारतीय मानसून का दोस्त कह सकते हैं। फिलहाल मानसून एल नीनो के चंगुल में है और मुक्ति के लिए संघर्ष कर रहा है। एल नीनो कमजोर पड़ रहा है और अगले 15 दिन में खत्म हो जाएगा। तब मानसून स्वतंत्र हो जाएगा परंतु इस संघर्ष के कारण कमजोर पड़ा रहेगा। ला नीना आकर उसे ताकत देगा। यह सब कुछ होते-होते कम से कम एक महीना लग जाएगा। यानी ठीक प्रकार से मानसून 1 महीने बाद आएगा। 

लेकिन यह अंतिम सत्य नहीं है। समुद्र और आसमान में इस प्रकार के संघर्ष चलते रहते हैं। इस बात की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है कि, ला नीना को आने वाले कुछ दिनों में कुछ अतिरिक्त शक्तियां मिल जाएंगी और वह वैज्ञानिकों के अनुमान से पहले और अनुमान से अधिक मात्रा में भारतीय मानसून को ताकत दे सकता है। सेटेलाइट से प्राप्त जानकारी और वैज्ञानिकों के बयानों को इसी प्रकार सरल हिंदी में हम आपको नियमित रूप से बताते रहेंगे। पढ़ते रहिए भोपाल समाचार डॉट कॉम।

भारत के विभिन्न राज्यों में मौसम का पूर्वानुमान

बादलों का एक दल अगले 7 दिनों के दौरान अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में गरज, बिजली और तेज़ हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ व्यापक रूप से हल्की से मध्यम वर्षा करेगा, लेकिन इस बात की पूरी संभावना है कि बादलों का दूसरा दल अगले 5 दिनों के दौरान उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, असम और मेघालय, अरुणाचल प्रदेश, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में भारी से बहुत भारी वर्षा कर सकता है।

अगले 4 दिनों के दौरान गंगीय पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा में तेज हवाएं (30-40 किमी प्रति घंटे) चलने की संभावना है और गरज, चमक और बिजली के साथ छिटपुट हल्की से मध्यम वर्षा होगी और उसके बाद इसके बढ़ने की संभावना है। 18 और 19 जून को ओडिशा में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होने की संभावना है।

भारत के पश्चिमी तट पर तेज़ पश्चिमी हवाएँ चल रही हैं। निचले और मध्य क्षोभमंडल स्तर पर रायलसीमा से बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों तक एक ट्रफ रेखा बनी हुई है। आसमान में बादलों की इस रैली के कारण:-
  • कोंकण और गोवा में गरज के साथ हल्की से मध्यम वर्षा और मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा में छिटपुट वर्षा होने की संभावना है।
  • कर्नाटक, केरल और माहे, लक्षद्वीप अंडमान और निकोबार द्वीप समूह,में गरज, बिजली और तेज हवाओं (30-40 किमी प्रति घंटे) के साथ व्यापक रूप से हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है, लेकिन कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है।
  • तटीय आंध्र प्रदेश और यनम, रायलसीमा, तेलंगाना, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल में छिटपुट हल्की से मध्यम वर्षा होगी। 

एक चक्रवाती परिसंचरण दक्षिण-पश्चिमी राजस्थान और आसपास के निचले और मध्य क्षोभमंडल स्तर पर स्थित है। इसके प्रभाव में; 
  • अगले 5 दिनों के दौरान मध्य प्रदेश, विदर्भ, छत्तीसगढ़ में गरज, बिजली और तेज हवाओं (40-60 किमी प्रति घंटे) के साथ हल्की से मध्यम छिटपुट वर्षा होने की संभावना है।
  • 16 जून को पश्चिमी मध्य प्रदेश में छिटपुट ओलावृष्टि की भी संभावना है। 

भारत मौसम विज्ञान विभाग की ताजा चेतावनियां

  • असम और मेघालय के लिए रेड अलर्ट - बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। यह स्थिति 19 जून तक बनी रहेगी। 
  • अप हिमालय पश्चिम बंगाल और सिक्किम के लिए रेड अलर्ट - मूसलाधार बारिश होने की संभावना है। यह खतरा 19 जून तक बना रहेगा। 
  • नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के लिए ऑरेंज अलर्ट - मूसलाधार बारिश होने की संभावना है। 
  • अरुणाचल प्रदेश के लिए और ऑरेंज अलर्ट - मूसलाधार बारिश होने की संभावना है। 
रेड अलर्ट वाले इलाकों के नागरिकों से अपील की गई है कि कृपया स्वयं को सुरक्षित स्थान पर छुपा लें और मौसम के सामान्य होने की प्रतीक्षा करें। बारिश नहीं होने की स्थिति में भी कृपया खतरा नहीं उठाएं। 
ऑरेंज अलर्ट वाले इलाकों के नागरिकों से अपील की गई है कि कृपया मौसम का ध्यान रखें। यदि आसमान में बादलों की गतिविधियां बढ़ती है तो फिर तत्काल स्वयं को सुरक्षित करें। 

विनम्र अनुरोध 🙏कृपया हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। सबसे तेज अपडेट प्राप्त करने के लिए टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। इनकी डायरेक्ट लिंक स्क्रॉल करने पर मिल जाएगी। भारत के महत्वपूर्ण और उपयोगी समाचारों के लिए कृपया स्क्रॉल करते हुए सबसे अंत में जाएं और POPULAR Category में National पर क्लिक करें

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !