MP karmchari news- लिपिकों हेतु मुख्यमंत्री द्वारा गठित समिति की अनुशंसा 9 साल से पेंडिंग

जबलपुर
। मध्यप्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा जिलाध्यक्ष अटल उपाध्याय ने बताया है कि अध्यक्ष मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण समिति (राज्य मंत्री दर्जा) रमेश चंद्र शर्मा ने पत्र क्रमांक 1185 दिनाँक 14/7/2014 करीबन 9 वर्ष पूर्व लिपिकों की वेतन विसंगति सुधारने प्रतिवेदन सरकार को सौप दिया है। 

मुख्यमंत्री जी ने 30 अक्टूबर 2015 को लिपिकों की समस्याओं एवं वेतन विसंगति सुधारने समिति गठन की घोषणा की थी। घोषणा के पालन में मध्यप्रदेश शासन सामान्य प्रशासन विभाग के आदेश क्रमांक एफ 5-9/2015/1-15/कक दिनाँक 07/05/2016 के अनुसार लिपिकों की वेतन विसंगति सुधारने समिति का गठन किया गया था। 

समिति सहायक ग्रेड 3 संवर्ग की ग्रेड पे 2400 करने की अनुसंशा की है। प्रथम समयमान 2800 द्वित्तीय समयमान 3200 एवं तृतीय समयमान 3600 करने की अनुसंशा की है। 1983 चौधरी वेतनमान से विसंगति मानी गई है। समिति ने नियुक्ति के समय 1900 ग्रेड पे को पूर्णतः अनुचित मानकर 2400 किये जाने को न्याय संगत बताया है। 

मध्यप्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के योगेंद्र दुबे, अटल उपाध्याय, संतोष मिश्रा,संजय गुजराल, नरेश शुक्ला, विश्वदीप पटेरिया, रविकांत दहायत,यू एस करोसिया,देव दोनेरिया,एस के बांदिल, प्रदीप पटेल,मुकेश मरकाम,धीरेन्द्र सिंह,अजय दुबे,योगेंद्र मिश्रा,आसुतोष तिवारी, नरेंद्र सेन,चंदू जाऊ लकर ने रमेश चंद्र शर्मा समिति द्वारा की गई अनुशंसा के अनुसार लाभ देने की मांग की है।