BHOPAL NEWS - सिंचाई विभाग का पूर्व इंजीनियर हनी ट्रैप का शिकार

भोपाल। 
राजधानी भोपाल सिंचाई विभाग के रिटायर्ड इंजीनियर को महिला ने प्रेम जाल में फंसाकर 15 लाख  रुपए लेने का मामला सामने आया है। महिला पैसा नहीं मिलने पर वीडियो वायरल और रेप के केस में फंसाने की धमकी देकर ब्लैकमेल करती रही। इतनी रकम देने के बाद भी महिला व गैंग के मेंबर्स और पैसे की मांग कर करे रहे हैं। गोविंदपुरा पुलिस ने महिला, उसके पति समेत तीन लोगों को आरोपी बनाया है। अभी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

इंजीनियर ने पुलिस को बताया

अयोध्या बायपास पर स्थित निजामुद्दीन कॉलोनी निवासी सिंचाई विभाग से रिटायर्ड इंजीनियर (63) ने पुलिस को बताया कि नवंबर-दिसंबर 2021 में उनके पास अज्ञात मोबाइल नंबर (91-6262846450) से मोबाइल पर मिस्ड कॉल आया। उन्होंने रिटर्न कॉल किया। इसमें समरीन नाम की लड़की ने मोबाइल पर बात करना शुरू किया। समरीन ने उन्हें बताया कि उसका शौहर ध्यान नहीं देता, खर्च के लिए पैसे नहीं हैं। उसने कई समस्याओं का जिक्र कर इंजीनियर से दोस्ती कर ली। इसके थोड़ी दिन बाद समरीन उन्हें मुलाकात करने बुलाने लगी।

दोनों के बीच दो-तीन बार मुलाकात हुई। 29 दिसंबर 2021 को इंजीनियर विजय मार्केट गोविंदपुरा में समरीन से मुलाकात करने पहुंचे। कार में दोनों बैठकर जा रहे थे। इसी समय सोहैल बैग, अमान, पप्पू खान ने कार को जबरदस्ती रोक लिया। तीनों ने वीडियो बनाया। धमकी दी कि तुम मेरे दोस्त की पत्नी के साथ घूम रहे हो। मैं अभी उसको फोन करके बुलाता हूं। तीनों ने इंजीनियर के साथ मारपीट कर दी। डरा धमका कर उनसे पैसों की अड़ी डालने लगे। इंजीनियर ने तुरंत ही 40 हजार रुपए पेटीएम कर दिया। इसके बाद 90 हजार कैश दिए।

इंजीनियर को लगा कि कैश देने के बाद अब उन्हें परेशान नहीं किया जाएगा। इसी बीच समरीन का पति निसार उर्फ इसरार, इनाम ने उन्हें फोन कर धमकी दी कि तुमने मेरी पत्नी के साथ गलत किया है। पत्नी ने महिला थाने, ऐशबाग, ईंटखेड़ी में एफआईआर करा चुकी है। अगर पैसे नहीं दिए, तो जेल में बंद करवा दूंगा। धमकी से डरे इंजीनियर ने समरीन, निसार, इनाम तीनों ने उनसे 7 लाख 20 हजार रुपए लिए। इंजीनियर का कहना कि अब तक आरोपियों को वे अब तक 15 लाख 47 हजार रुपए दे चुके हैं।

इंजीनियर ने पुलिस को बताया कि 13 फरवरी को आरोपियों ने जाल बुनकर नोटरी के पास सहमति पत्र बनवाया। उसमें लिखवाया कि आपके खिलाफ केस वापस ले लेंगे। सहमति पत्र पर भी उनसे आरोपियों ने हस्ताक्षर कराए। इंजीनियर ने बताया कि आरोपियों ने उनकी एक्टिवा से 2 लाख का भरा हुआ चेक भी छीन लिया है। 15 लाख रुपए मिलने के बाद भी आरोपी उनसे पैसे मांगते रहे। हाल में समरीन ने उन पर दुकान और घर बेचकर और पैसे की मांग रख दी। इस पर वह वकीलों से मिलकर कानूनी सलाह ली। इसके बाद थाने में मामला दर्ज कराया। FIR की जानकारी लगते ही आरोपी लापता हैं। भोपाल की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया bhopal news पर क्लिक करें।