पृथ्वी के रोटेशन और रिवॉल्यूशन से क्या-क्या होता है, यहां पढ़िए- Global Earth Day

आज पृथ्वी दिवस है। सौरमंडल का वह ग्रह जिसमें जीवन है, इंसान, वन्य प्राणी, पर्यावरण और प्रकृति का संतुलन है। कहते हैं सारे अंतरिक्ष में पृथ्वी सबसे सुंदर ग्रह है। भारत में इसे कई नामों (पृथ्वी, धरा, जन्मभूमि, मातृभूमि, वसुंधरा, जननी) से पुकारा जाता है। भारतीय संस्कृति में पृथ्वी को माता कहा गया है। यह रोटेशन में करती है और रिवॉल्यूशन भी। आइए समझते हैं कि रोटेशन करने से और रिवॉल्यूशन करने से पृथ्वी के अंदर क्या-क्या होता है:- 

घूर्णन और परिक्रमण में क्या अंतर है - What is the difference between Rotation and Revolution

पृथ्वी के अपने अक्ष पर घूमने को घूर्णन (Rotation) कहते हैं। इसी के कारण ही दिन-रात होते हैं। जबकि पृथ्वी के सूर्य के चारों ओर घूमने को परिक्रमण (Revolution) कहते हैं जिसके कारण ऋतु परिवर्तन होता है। हमारे सौरमंडल में पृथ्वी ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जहां स्थलमंडल, जलमंडल और वायुमंडल के अलावा जैवमंडल भी पाया जाता है। 

पृथ्वी के बारे में कुछ मजेदार और महत्वपूर्ण जानकारियां 

✔ अब तक संग्रहित की गई जानकारी में पृथ्वी ही एक मात्र ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन पाया जाता है। 
✔ पृथ्वी की आकृति शुक्र ग्रह से बहुत ज्यादा मिलती-जुलती है, इसी कारण पृथ्वी को शुक्र की  "जुड़वा बहन"  भी कहा जाता है।
✔ दिनांक 22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस सबसे पहले सन् 1970 में मनाया गया था। 
✔ विश्व जल दिवस 22 मार्च के ठीक 1 महीने बाद 22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। 
✔ पृथ्वी आकार में पांचवां सबसे बड़ा ग्रह है। 
✔ पृथ्वी को सूर्य की एक एक परिक्रमा करने में लगे समय को सौर वर्ष कहा जाता है। 
✔ Earth के वायुमंडल में 21% ऑक्सीजन है और इसकी सतह पर पानी है। 
✔ वैज्ञानिकों का मानना है कि पृथ्वी का निर्माण लगभग 4.54 बिलियन साल पहले हुआ था। 
✔ नीले रंग की उपस्थिति के कारण पृथ्वी को "Blue Planet" कहा जाता है।