CM Sir, अतिथि शिक्षक नाम का पौधा मुरझा गया है, बचा लीजिए- Khula Khat to Shivraj Singh Chouhan

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी का 5 मार्च को जन्मदिन था। उनकी प्रेरणा से पूरे प्रदेश में पौधारोपण किया गया। मुख्यमंत्री जी पर्यावरण संरक्षण के लिये प्रतिदिन पौधा लगाते हैं, अच्छी बात है लेकिन जब पौधा लगाया तो उसकी देखभाल भी करना बहुत जरूरी होता है। 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री जी द्वारा "अतिथी शिक्षक" नाम का पौधा 2010 मे लगाया था जो आज 12वर्ष के बाद भी मुरझाया हुया है। साथ ही ये समय के अनुसार कुपोषित होता जा रहा है। क्या ये पौधा इसी तरह कुपोषित होकर सूख जायेगा या फिर इसकी देखभाल के लिये कोई योजना है। पौधा पर्यावरण को शुद्ध करता है और अतिथि शिक्षक उस पर्यावरण में रहने वाले समाज को शुद्ध करता है। फिर आपके द्वारा अतिथि शिक्षकों के प्रति इतना भेदभाव क्यों किया जा रहा है। 

आपसे निवेदन है की कोई भी नीति बनाएं तो उसके भविष्य के बारे मे जरुर विचार करें। आपके द्वारा अतिथि शिक्षक का जन्म दिया गया लेकिन इसका पालन-पोषण सही तरीके से न होने के कारण ये एक चिंता का विषय है। उम्मीद है कि आप इस पर जल्द विचार करेंगे और अपना सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्य को पूरा करेंगे। ✒ समस्त  अतिथी शिक्षक ,  मध्य प्रदेश  (9479759292)

अस्वीकरण: खुला-खत एक ओपन प्लेटफर्म है। यहां मध्य प्रदेश के सभी जागरूक नागरिक सरकारी नीतियों की समीक्षा करते हैं। सुझाव देते हैं एवं समस्याओं की जानकारी देते हैं। पत्र लेखक के विचार उसके निजी होते हैं। इससे पूर्व प्रकाशित हुए खुले खत पढ़ने के लिए कृपया Khula Khat पर क्लिक करें. यदि आपके पास भी है कुछ ऐसा जो मध्य प्रदेश के हित में हो, तो कृपया लिख भेजिए हमारा ई-पता है:- editorbhopalsamachar@gmail.com