SBI BHOPAL का मैनेजर भी ठगी का शिकार हो गया, जबकि बैंक वाले तो दुनिया को बचने के तरीके बताते हैं

भोपाल।
बैंक वाले अपने ग्राहकों को ठगी का शिकार होने से बचने के तरीके बताते हैं। बार-बार याद दिलाते हैं कि आपको सतर्क रहना चाहिए। बैंक में ठगी के शिकार व्यक्ति का मजाक उड़ाते हैं, ठगी के लिए उसे ही जिम्मेदार बताते हैं जबकि मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का ब्रांच मैनेजर ही ठगी का शिकार हो गया। 

SBI के ब्रांच मैनेजर को कैसे ठगा, यहां पढ़िए 

सुराना मोटर्स का खाता भारतीय स्टेट बैंक की चंचल रोड, संत हिरदाराम नगर शाखा में है। 22 जनवरी को शाखा प्रबंधक दर्शन दानी के पास (9617765766) से फोन आया। फोन करने वाले ने बताया कि मैं राजेन्द्र सुराना बोला रहा हूं। पैसों के अर्जेंट काम आ गया है। मैं बैंक एकाउंट भेज रहा हूं। इन खातों में रकम ट्रांसफर कर दीजिए। खाता धारक मेरे पुराने क्लाइंट हैं। इस पर सुराना की साख को देखते हुए मैनेजर ने तुरंत ही उनके बैंक खाते से 25 लाख 96 हजार रुपए ट्रांसफर कर दिए। बाद में पता चला कि फोन करने वाला राजेन्द्र सुराना नहीं, जालसाज था। इस पर मैनेजर ने संत हिरदाराम नगर थाने में शिकायती आवेदन दिया। पुलिस ने मोबाइल धारक के खिलाफ जालसाजी का केस दर्ज किया है।

पुलिस इन्वेस्टिगेशन में अब तक क्या-क्या पता चला

थाना प्रभारी डीपी सिंह ने बताया कि जालसाज ने वारदात को अंजाम देने राजेन्द्र सुराना का फर्जी ई-मेल आईडी भी नया क्रिएट किया था। इसी ई-मेल के जरिए उसने तीन बैंक एकाउंट भेजे। लेटर पैड में लिखे एकाउंट नंबर में सुराना के हस्ताक्षर भी थे। मैनेजर का कहना है कि हस्ताक्षर का मिलान करने के बाद रकम ट्रांसफर की है। मुंबई, हिमाचल प्रदेश, कुशीनगर में खुले बैंक खातों में उक्त रकम गई है। हालांकि पैसा अभी एकाउंट से नहीं निकल सका है। पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है। भोपाल की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया bhopal news पर क्लिक करें।