MP NEWS- मजबूर जनता, सरकारी स्कूल में शिक्षकों का वेतन चंदा करके दे रही है

भोपाल
। किसी भी सरकार के लिए यह शर्मसार करने वाला विषय होता है जब हर खरीद और सेवा पर GST अदा करने वाली जनता को शिक्षा और चिकित्सा जैसी सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पा रही हों। नवादपुरा गांव कहने को तो स्मार्ट विलेज है परंतु असल में लावारिस गांव हैं। यहां सरकारी स्कूल तो है लेकिन उसमें शिक्षक नहीं है। मजबूर ग्रामीणों ने प्राइवेट शिक्षक नियुक्त किए हैं। चंदा करके शिक्षकों को वेतन दिया जा रहा है। 

आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश की शर्मसार करने वाली तस्वीर

नवादपुरा गांव मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित है। सरकार ने इसे स्मार्ट विलेज घोषित किया था। स्मार्ट सिटी के विकास पर तो हजारों करोड रुपए खर्च किए जा रहे हैं परंतु मध्य प्रदेश के स्मार्ट विलेज के स्मार्ट स्कूल में शिक्षक ही नहीं है। सरकार ने यहां अतिथि शिक्षक भी नियुक्त नहीं किए। मजबूर ग्रामीणों ने बच्चों का भविष्य बचाने के लिए 12 प्राइवेट टीचर अप्वॉइंट किए हैं। सरकारी स्कूल में प्राइवेट टीचर पढ़ाते हैं। इनका सालाना वेतन ₹800000 आएगा। ग्रामीणों ने चंदा करके वेतन देने का निर्णय लिया है।

यह सराहनीय नहीं चिंता का विषय है, 

आश्चर्यजनक बात यह है कि समाज का बुद्धिजीवी वर्ग ग्रामीणों की इस पहल की सराहना कर रहा है। जबकि यह व्यवस्था में लापरवाही और शिक्षा का अधिकार अधिनियम का खुला उल्लंघन है। नवादपुरा गांव के मामले में ऐसा नहीं होगा परंतु यदि नवादपुरा की नकल करते हुए पूरे मध्यप्रदेश के ग्रामीण इलाकों में इस प्रकार की गतिविधियां चलने लगी तो यह बहुत खतरनाक होगा। 

  • आज सरकारी बिल्डिंग में प्राइवेट कर्मचारी नियुक्त किए गए हैं। 
  • कल निजी स्तर पर मेंटेनेंस किया जाएगा। 
  • भवन पर मेंटेनेंस करने वाले का अधिकार हो जाता है, 5 साल बाद कब्जा कर लिया जाएगा। 
  • खर्चा निकालने के लिए स्कूल के बाहर दुकानें खोली जाएंगी।
  • खर्चा बढ़ जाने पर इनमें से कुछ दुकानों को शराब ठेकेदार को किराए पर दे दिया जाएगा। 

जिला शिक्षा अधिकारी को सस्पेंड कर देना चाहिए 

सरकारी स्कूल में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं करने के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को सस्पेंड कर देना चाहिए।
सरकारी स्कूल में प्राइवेट शिक्षकों की नियुक्ति के लिए जिला शिक्षा अधिकारी को तुरंत सस्पेंड कर देना चाहिए। 
सरकारी स्कूल का भवन निजी गतिविधियों के लिए उपलब्ध कराने के आरोप में जिला शिक्षा अधिकारी को तत्काल सस्पेंड कर देना चाहिए।
धार जिले के कलेक्टर को चाहिए कि तत्काल नवादपुरा गांव में नियमित अथवा अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति करें। जिन शिक्षकों को ग्रामीणों ने चुना है, उन्हें ही अतिथि शिक्षक के रूप में नियुक्त करें परंतु व्यवस्था को सरकारी प्रक्रिया में लाना अनिवार्य हैं।

11 अक्टूबर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार 

ctet 2021 application last dateकेंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन करने का लास्ट चांस
MP NEWS-पैसे नहीं थे तो ताला क्यों लगाया: चोरों ने SDM को चिट्ठी में लिखा
MP NEWSमध्यप्रदेश में त्राहि-त्राहि: पेट्रोल जैसी होगी बिजली की कीमत में वृद्धि
MP NEWS- सब इंजीनियर की एप्लीकेशन और CEO का ऑर्डर वायरल
GWALIOR NEWS- पहली बार पति-पत्नी में प्यार के कारण तत्काल तलाक मंजूर
MPPSC-2020 Score Card एवं OMR Sheet जारी, Result यहां देखें
MP COLLEGE ADMISSION- सरकारी में लंबी लाइन, प्राइवेट सूने पड़े हैं
प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलिए, आवेदन आमंत्रित, ₹50000 मासिक की कमाई
MP NEWS- 40% शासकीय कर्मचारी मेंटली डिस्टर्ब, VRS दिया जा सकता है
मध्य प्रदेश शिक्षक भर्ती- अंतिम चयन सूची जारी, 12043 उम्मीदवारों के नाम यहां पढ़ें - MP TEACHERS FINAL LIST PDF DOWNLOAD
BHOPAL NEWS- पंचकर्म की चमत्कारी टेबल पर प्रमुख सचिव उठा ले गए, बाकी सब परेशान

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiजंग लगने के बाद लोहे का वजन बढ़ जाता है या घट जाता है
GK in Hindi- फाइल दबाने वाले अधिकारियों से काम कराने का कानूनी तरीका
GK in Hindiहजारों टन सोने से भरा उल्का पिंड पृथ्वी से कब टकराएगा
GK in Hindiसमुद्र से 125 मीटर नीचे एक देश, जहां नालों में ज्वालामुखी का लावा बहता है
GK in Hindi- 3 प्रकार के विवाह, जिसमें लड़की को पत्नी का कानूनी अधिकार नहीं मिलता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here