Loading...    
   


KOLAR TI सुधीर अरजरिया सस्पेंड, दरिंदगी को मामूली छेड़छाड़ बताया था - BHOPAL NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के उपनगर कोलार में 24 साल की लड़की के साथ हुई दरिंदगी को मामूली छेड़छाड़ का मामला बताकर FIR दर्ज करने वाले मध्य प्रदेश पुलिस के इंस्पेक्टर सुधीर अरजरिया को सस्पेंड कर दिया गया है। डीआईजी इरशाद वली ने मामले की जांच के लिए SIT गठित कर दी है।हबीबगंज सीएसपी भूपेंद्र सिंह इस मामले की नए सिरे से जांच करेंगे।

घटना दिनांक 16 जनवरी 2021 के करीब 1 महीने बाद यह मामला देश भर की सुर्खियों में आ गया है। क्योंकि पीड़िता ने घटना का पूरा विवरण बताते हुए पुलिस की लापरवाही को उजागर किया। पीड़िता भोपाल के एम्स अस्पताल में भर्ती है। (पीड़ित लड़की का बयान पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें) मीडिया की सुर्खियों में आए पीड़िता के बयान के बाद प्रशासन एक्टिव हुआ और मामले की नए सिरे से जांच कराने के लिए स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम गठित की गई।

कोलार पुलिस ने बिना पहचान करवाए एक युवक को जेल भेज दिया

कोलार पुलिस ने इस मामले में छेड़छाड़ और मामूली मारपीट का मामला दर्ज किया था। डीआईजी ने माना की है बलात्कार का मामला है। कोलार पुलिस ने पूछताछ के बाद एक युवक को गिरफ्तार कर न्यायालय के आदेश पर जेल भेज दिया गया था। उसके बाद युवक की दो बार जमानत याचिका भी खारिज हो चुकी है। वह अभी भी जेल में है, लेकिन पीड़ित लड़की का कहना है कि उसने अब तक आरोपी की शिनाख्त नहीं की है। वह अस्पताल से व्हीलचेयर पर थाने जाने के लिए तैयार थी परंतु पुलिस तैयार नहीं थी। इस मामले में जांच के बाद दुष्कर्म और हत्या के प्रयास की धाराएं भी बढ़ा दी गई हैं। SIT की जांच में तथ्य सामने आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

SIT में CSP के साथ 2 SI और एक IAS

CSP भूपेंद्र सिंह के नेतृत्व में बनी SIT में दो SI और एक ASI को शामिल किया गया है। इसमें कोलार थाने की SI स्वेता शर्मा मुख्य विवेचना अधिकारी होंगी, जबकि गौतम नगर थाने के SI सुरेश प्रताप सिंह चंदेल के साथ शाहपुरा थाने के ASI उपेंद्र सिंह उनकी मदद करेंगे। टीम का मुख्य काम मामले में बरती गई लापरवाही की जांच करना है। मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी साउथ को नेतृत्व में टीम गठित की गई है। ASP जोन-1 अंकित जयसवाल और कोतवाली CSP बिट्‌टू शर्मा को प्रतिवेदन बनाने की जिम्मेदारी सौंपी है, ताकि मामले में आरोपी की शिनाख्त होने के बाद उसे सख्त सजा दिलाई जा सके।

एक कदम भी नहीं चल पा रही पीड़ित लड़की

घटना के बाद से ही पीड़ित अस्पताल में भर्ती है। वह अपनी मां के साथ रहती है। उसने बताया कि वह चल फिर नहीं पा रही है। दोनों पैर में तकलीफ ज्यादा है। हालांकि वह पहले से काफी ठीक है। 

19 फरवरी को सबसे ज्यादा पढ़ाई जा रही है समाचार 



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here