Loading...    
   


समय की गणना के लिए सेकंड का निर्धारण कैसे हुआ - GK IN HINDI

यह तो आप जानते ही हैं कि दुनिया की तमाम सभ्यताओं और देशों में समय की गणना का तरीका अलग अलग हुआ करता था। भारतवर्ष में निवास करने वाले हिंदू संप्रदाय में कालगणना क्रमश: प्रहर, दिन-रात, पक्ष, अयन, संवत्सर, दिव्यवर्ष, मन्वन्तर, युग, कल्प और ब्रह्मा की गणना की जाती है लेकिन एक वक्त ऐसा है जो दुनिया के सभी देशों में समय के निर्धारण की एक पद्धति को मान्यता दी। इस की सबसे छोटी इकाई सेकेंड है। 60 सेकंड से 1 मिनट और 60 मिनट से घंटा बना। इस तरह समय का निर्धारण हुआ लेकिन सवाल यह है कि सेकंड का निर्धारण कैसे हुआ। क्या 1 सेकेंड के अंदर 60 मिली सेकंड होते हैं। सीधा सवाल यह है कि घड़ी की टिक-टिक के बीच का गैप (समय) कैसे तय किया गया कि कितना होगा। आइए पता लगाते हैं:-

जब सभी प्रकार की घटनाएं 100 के आधार पर होती हैं तो फिर समय चक्र 60 के आधार पर क्यों

भारतवर्ष के प्राचीन ग्रंथ ज्योतिर्विदाभरण में अनुसार कलियुग में 6 व्यक्तियों ने संवत चलाए। यथा- युधिष्ठर, विक्रम, शालिवाहन, विजयाभिनन्दन, नागार्जुन, कल्की। इसके अनुसार वर्ष की गणना की जाती थी। 1 दिन के भीतर समय की गणना के लिए प्रहर, घटी और पल का उपयोग किया जाता था। सुमेरियन सभ्यता के लोग 60 की संख्या का उपयोग करते थे। यही कारण है कि उन्होंने समय को भी 60 की संख्या में नापा और विभाजित कर दिया। जब सारी दुनिया के लिए एक समय चक्र की बात आई तब सुमेरियन सभ्यता द्वारा की जाने वाली समय की गणना को मान्यता दी गई क्योंकि वह सबसे सटीक थी।

1 सेकंड कितने समय का होगा इसका निर्धारण कैसे हुआ

आपको जानकर अच्छा लगेगा कि सेकंड का नाम सेकंड इसलिए रखा गया क्योंकि घंटे का दूसरा भाग है। घंटे का पहला भाग मिनट है। अब आते हैं अपने सवाल पर कि सेकंड का शोधन कैसे किया गया। "QUARTZ" क्वार्ट्ज, यह शब्द घड़ियों में आपने अक्सर पढ़ा होगा। सारी दुनिया में QUARTZ यानी स्फटिक का पत्थर अकेली ऐसी चीज है जो हमेशा एक समान कंपन उत्पन्न करती है। हर मौसम और हर परिस्थिति में, इसके कंपन में कोई परिवर्तन नहीं होता। यही कारण है कि इसके एक बार कंपन की अवधि को 1 सेकंड माना गया। इसीलिए घड़ियों या टाइम से जुड़ी किसी भी डिवाइस में QUARTZ जरूर लिखा होता है। Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (current affairs in hindi, gk question in hindi, current affairs 2019 in hindi, current affairs 2018 in hindi, today current affairs in hindi, general knowledge in hindi, gk ke question, gktoday in hindi, gk question answer in hindi,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here