MPPSC 2019: ग्वालियर की कड़कड़ाती ठंड में बिना स्वेटर परीक्षा देना होगा, कलेक्टर ने राहत नहीं दी

ग्वालियर। मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन 12 जनवरी को किया जा रहा है। प्रतियोगी परीक्षाओं में ड्रेस कोड लागू होने के बाद यह पहली बार है जब मध्य प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन द्वारा ठंड के मौसम में परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है। उम्मीदवारों ने आपत्ति उठाई तो लोक सेवा आयोग ने व्यवस्था दी थी कि स्थानीय कलेक्टर मौसम के अनुसार उम्मीदवारों को गर्म कपड़े और जूते मोजे पहनने की अनुमति दे सकते हैं परंतु ग्वालियर कलेक्टर ने उम्मीदवारों को इसकी अनुमति नहीं दी है। जबकि समाचार लिखे जाते समय ग्वालियर का तापमान 8 डिग्री था। यहां कड़ाके की ठंड पड़ रही है।

ग्वालियर में एमपीपीएससी उम्मीदवार गर्म कपड़े एवं जूते मोजे नहीं पहन सकते

ग्वालियर कलेक्टर की ओर से एमपीपीएससी 2019 के उम्मीदवारों के नाम दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। इसके अनुसार परीक्षा सेंटर पर अगर आप परीक्षा देने जा रहे हैं तो अपने साथ किसी भी प्रकार की इलेक्ट्रोनिक डिवाइस न ले जाएं और सर्दी से बचने के लिए कोई भी ऐसा वस्त्र न पहनें जिसमें चेहरा ढका हो। जूते, मोजे और बेल्ट ही घर पर उतारकर जाएं। प्रशासनिक अधिकारियों ने परीक्षा की तैयारियां शुरु कर दी हैं। यह परीक्षा 12 जनवरी को सुबह 10 बजे से शुरु होकर 12 बजे तक चलेगी, इसके बाद दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक की जाएगी।

MPPSC 2019 परीक्षा में इन चीजों पर प्रतिबंध लगाया

परीक्षा में किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के उपयोग को रोकने के लिए परीक्षा कक्ष में जूते मोजे पहनकर प्रवेश वर्जित होगा। परीक्षार्थी चप्पल व सैंडल पहनकर आ सकते हैं। चेहरे को ढक कर परीक्षा कक्ष में प्रवेश वर्जित होगा। एसेसरीज जैसे बालों को बांधने का कल्चर, बकल, घडी, हाथ में पहने जाने वाले किसी भी प्रकार के बैंड, कमर में पहने जाने वाले बेल्ट, चश्मे, पर्स, वालेट, टोपी वर्जित है। सिर, नाक, कान, गला, हाथ, पैर, कमर आदि में पहनने वाले सभी प्रकार के आभूषण तथा हाथ में बंधे धागे कलावा रक्षा सूत्र आदि पर प्रतिबंध रहेगा।

प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा परीक्षा को लेकर केन्द्र चिन्हित किए जा रहे हैं। प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि परीक्षा केंद्र में पूर्व से टोकन बना कर रखें जिससे सामान सुरक्षित रखने का कार्य सुविधापूर्वक हो सके। यह सुनिश्चित करें कि परीक्षार्थियों को परीक्षा पूर्व सामान सुरक्षित रखने व परीक्षा उपरांत प्राप्त करने में 15 मिनट से अधिक समय ना लगे। महिला अभ्यर्थियों की तलाशी पूर्ण गरिमा के साथ महिला अधिकारी कर्मचारी द्वारा ही ली जाए महिला अभ्यर्थियों के दुपट्टे चुन्नियाँ भलीभांति जांच कर तुरंत वापस लौटा दिया जाए। परीक्षा देने के लिए 30 मिनट पहले केन्द्र पर पहुंचकर रिपोर्टिंग करनी होगी।