Loading...

महाराष्ट्र में भाजपा के तनाव का नाम 'आदित्य ठाकरे' | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने हरियाणा और महाराष्ट्र के चुनाव में जीत हासिल की लेकिन यह जीत तनाव लेकर आई है। हरियाणा में भाजपा की तनाव का नाम गोपाल कांडा है तो महाराष्ट्र में आदित्य ठाकरे। शिवसेना ने महाराष्ट्र में पोस्टर लगा दिए हैं जिसमें आदित्य ठाकरे को मुख्यमंत्री बताया गया है। उद्धव ठाकरे की 50-50 के फार्मूले की याद दिला रहे हैं। इस फार्मूले से तात्पर्य है महाराष्ट्र में ढाई साल भाजपा का मुख्यमंत्री होगा और ढाई साल शिवसेना का।

भाजपा देवेंद्र फडणवीस का ऐलान कर चुकी है

शिवसेना ने बीजेपी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा है। बीजेपी ये साफ कर चुकी है कि राज्य का अगला सीएम देवेंद्र फडणवीस ही होंगे लेकिन शिवसेना ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं। सीएम पद को लेकर जब आदित्य ठाकरे से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इसके बारे में बाद में बात करेंगे। 

उन्माद नहीं वरना समाप्त हो जाएंगे

वहीं जब शिवसेना प्रमुख से इसको लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कोई सीधा जवाब नहीं दिया और बीजेपी को 50-50 फॉर्मूले की याद दिलाई। इतना ही नहीं शिवसेना ने बीजेपी की जीत पर कहा कि ये ‘महाजनादेश’ नहीं है। अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में शिवसेना ने लिखा, ''महाराष्ट्र की जनता का रुझान सीधा और साफ है। अति नहीं, उन्माद नहीं वर्ना समाप्त हो जाओगे, ऐसा जनादेश ‘ईवीएम’ की मशीन से बाहर आया।'' 

ठाकरे बोले पहले फार्मूला फिर सरकार

नतीजों के बाद शिवसेना राज्य के सीएम पद की मांग कर रही है। सामना के पहले पन्ने पर भी शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बयान को छापा गया है। इसके शीर्षक में लिखा है, ‘पहले फॉर्मूला, फिर सरकार।’ उद्धव ठाकरे ने कहा कि ये समय बीजेपी को वह फॉर्मूला याद दिलाने का है जिसका वादा बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने किया था। यह फॉर्मूला 50-50 (ढाई साल बीजेपी का और ढाई साल शिवसेना का मुख्यमंत्री) का था।’’