Loading...

मप्र को अरब से ठंडी हवाएं, उत्तर से बादलों ने घेरा, दीवाली तक हर रोज ठंड बढ़ेगी | MP WEATHER REPORT and FORECAST

भाेपाल। मध्यप्रदेश में 2 तरफ से ठंडी हवाओं का हमला हो रहा है। वैज्ञानिक बता रहे हैं कि अरब सागर में लाे प्रेशर एरिया बना हुआ है। इसके कारण हवा में नमी आ गई है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना है। इसलिए लगातार बादल छाए हुए हैं जो हवा की नमी को कम ही नहीं होने दे रहे। मध्यप्रदेश से विदर्भ तक ट्रफ लाइन बनने के कारण बारिश हो रही है। जमीन से करीब 4 किलोमीटर ऊंचाई पर बादलों का बसेरा है और 10 किलोमीटर की ऊंचाई पर 70 किलोमीटर प्रतिघंटा की स्पीड से हवा चल रही है। 

भोपाल में 6 साल बाद इतना ठंडा दिन

मध्यप्रदेश के 6 जिलों में पिछले 2 दिनों में बारिश हुई। इसके कारण तापमान नीचे गिर गया और ठंड बढ़ गई। भोपाल में 6 साल यानी 4 अक्टूबर 2013 के बाद 20 अक्टूबर 2019 ऐसा दिन था जब अधिकतम तापमान सामान्य से 7 डिग्री नीचे लुढ़ककर 25.5 डिग्री पर पहुंच गया। इससे पहले 31 अक्टूबर 1997 यानी 22 साल पहले दिन का तापमान 25.4 डिग्री पर था। 

आने वाले दिनों में क्या होगा

वरिष्ठ माैसम वैज्ञानिक एके शुक्ला ने बताया कि भोपाल के अलावा मंडला में डेढ़ इंच, सिवनी व बालाघाट के मलाजखंड में एक-एक इंच बारिश हुई। इंदाैर व जबलपुर में भी दिन का पारा सामान्य से 7 डिग्री कम रहा। विशेषज्ञों का कहना है कि धनतेरस से ठंड का बढ़ना शुरू हो जाएगा। दीपावली की रात ठिठुरन भरी हो सकती है। प्रतिदिन तापमान गिरने का क्रम नवम्बर के पहले सप्ताह तक चलेगा और फिर लगातार ठंड का मौसम शुरू हो जाएगा। 

कहां से आ रहीं हैं ठंडी हवाएं

1. अरब सागर में लाे प्रेशर एरिया बना हुआ है। इसके बनने के कारण भोपाल समेत मप्र के कई क्षेत्रों में नमी अस रही है।
2. पूर्वी उत्तर प्रदेश में हवा के ऊपरी भाग में चक्रवात बना है। इसलिए यूपी से लेकर भाेपाल तक बादल छाए हैं।
3. लाे प्रेशर एरिया से विदर्भ तक ट्रफ लाइन बनी है। इसीलिए हाेशंगाबाद, जबलपुर, इंदाैर संभाग के कुछ हिस्साें, बालाघाट, मंडला में बारिश हुई।
4. भाेपाल में जमीन से 10 किमी ऊपर 70 किमी घंटे की गति से हवा चल रही है और 4-5 किमी ऊंचाई पर बादल बने हैं। ये बारिश करा रहे हैं।

लगातार बढ़ रहा दिन और रात के तापमान का अंतर

मौसम वैज्ञानिक पीके साहा के मुताबिक रविवार काे दिन और रात के तापमान में 5 डिग्री का अंतर रहा। शनिवार काे भी यह अंतर सिर्फ 4.2 डिग्री था। इससे पहले शुक्रवार को भी दोनों तापमानों में 8 डिग्री का अंतर था। ऐसे में अब  बादल छंटते ही ठंड बढ़ेगी और दीपावली पर रात का तापमान 21.6 डिग्री से घटकर 16 से 18 डिग्री के बीच रहने से ठिठुरन बढ़ने की संभावना है।  दस साल पहले 5 अक्टूबर 2009 को अक्टूबर इससे भी ज्यादा ठंडा रहा था। तब बारिश के कारण दिन का तापमान 24.1 डिग्री दर्ज किया गया था।