Loading...

BHOPAL शहर के बंटवारे का का ड्राफ्ट जारी, शहर को 2 हिस्सों में बांटा जा रहा है

भोपाल। नगर निगम चुनाव से पहले भोपाल शहर को दो हिस्सों में बांटकर दो नगर निगम (भोपाल ईस्ट और भोपाल वेस्ट) बनाने का ड्राफ्ट सोमवार रात कलेक्टर ने जारी कर दिया है। यानी भोपाल शहर के 2 हिस्सों में बांटने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। अब देखना यह है कि भोपाल के लोगों को यह बंटवारा मंजूर होगा या नहीं। 

दावे-आपत्ति के लिए 7 दिन की समय सीमा

भोपाल ईस्ट के नाम से प्रस्तावित नई नगर निगम में 31 वार्ड होंगे। इसमें कोलार, बावड़िया, मिसरोद, बागमुगालिया, कटारा, भेल, अयोध्या नगर, भानपुर और करोंद का इलाका शामिल किया गया है। भोपाल वेस्ट नगर निगम में मौजूदा 85 में से 54 वार्ड शामिल होंगे। जिला प्रशासन ने प्रस्तावित ड्राफ्ट पर दावे-आपत्ति के लिए 7 दिन की समय सीमा तय की है। इसके बाद इसे मंजूरी के लिए सरकार को भेजा जाएगा। राज्यपाल की अनुमति मिलने पर ही दो निकायों के गठन की अंतिम अधिसूचना जारी होगी।

कोलार की राजनीति के कारण भोपाल बंट रहा है

दो नगर निगम का ड्राफ्ट तो तैयार हो गया है लेकिन पेयजल सप्लाई और कचरा खंती जैसी आपस में जुड़ी सुविधाओं और सेवाओं का बंटवारा कैसे होगा? स्मार्ट सिटी, प्रधानमंत्री आवास योजना और प्रोजेक्ट अमृत जैसी केंद्र सरकार की योजनाओं का लाभ पूरे शहर को कैसे मिलेगा? जैसे कई सवालों के जवाब अभी किसी के पास नहीं हैं। कांग्रेस सरकार बनने के बाद वार्ड नंबर 80 से 85 को भोपाल नगर निगम से पृथक करने की अधिसूचना जारी हुई थी लेकिन लोकसभा चुनाव के बाद नगरीय आवास एवं विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने कोलार नपा गठन को नामंजूर कर दिया। इसके बाद दो नगर निगम की कवायद शुरू हुई। तीन अलग-अलग सुझावों पर चर्चा के बाद जिला कांग्रेस ने पूर्वी भोपाल और पश्चिमी भोपाल नगर निगम केे गठन का प्रस्ताव दिया था।

वेस्ट भोपाल में क्या होगा
54 वार्ड
12,13,430 जनसंख्या
185.23 क्षेत्रफल वर्ग किमी

पूर्वी भोपाल
31 वार्ड 
7,08,700 जनसंख्या
232.61 क्षेत्रफल वर्ग किमी

व्यावहारिक मुश्किलें... 
एक ही शहरी क्षेत्र में दो नगर निगम होने से सफाई, पेयजल, संसाधनों को लेकर आ सकती है परेशानी
1 आदमपुर छावनी का क्षेत्र पूर्वी भोपाल के पास होगा। ऐसे में पश्चिमी भोपाल के लिए नई कचरा खंती बनाना पड़ेगी। इसका सीधा असर स्वच्छ भारत मिशन पर पड़ेगा।
2 होशंगाबाद रोड और कोलार रोड यानी पूर्वी भोपाल से आने वाली नर्मदा व कोलार लाइन के रिजरवायर अरेरा हिल्स यानी पश्चिमी भोपाल में हैं और इनसे दोनों हिस्सों को पानी जाता है।
3 बड़ा तालाब पश्चिमी भोपाल में हैं और इससे जुड़ा अरेरा हिल्स स्थित प्लांट पूर्वी भोपाल में। भेल को बड़े तालाब से कच्चा पानी सप्लाई के लिए भी अरेरा हिल्स पर प्लांट है।
4 कोलार तहसील का कुछ क्षेत्र पूर्वी भोपाल में और कुछ पश्चिमी भोपाल में आएगा, ऐसे में एक तहसील दो निकायों में बंट जाएगी। ऐसे में तहसील का भी पुनर्गठन करना होगा।
5 स्मार्ट सिटी, अमृत और पीएमएवाय जैसी योजनाएं दोनों निकायों में कैसे लागू होंगी? निगम के जो लोन हैं और जो म्युनिसिपल बॉन्ड है उसकी लायबिलिटी किसके हिस्से आएगी?

पहले भी हुआ था विरोध
लोकसभा चुनाव के पहले कोलार के 6 वार्डों को अलग करके नपा गठित करने के लिए जारी अधिसूचना पर 100 आपत्तियां आईं थीं। इनमें से ज्यादातर ने विभाजन का विरोध किया था।