Loading...

शेयर बाजार: निवेशकों को 1 दिन में 6.83 लाख करोड़ रुपए का फायदा

मुंबई। सरकार द्वारा कॉर्पोरेट टैक्स घटाने और निवेशकों से जुड़े ऐलानों की वजह से शेयर बाजार में शुक्रवार को रिकॉर्ड तेजी आई। सेंसेक्स 1921.15 अंक की बढ़त के साथ 38,014.62 पर बंद हुआ। इंट्रा-डे में 2,284.55 अंक चढ़कर 38,378.02 तक पहुंचा था। निफ्टी की क्लोजिंग 569.40 प्वाइंट ऊपर 11,274 पर हुई। इंट्रा-डे 677 अंक के उछाल के साथ 11,381.90 तक पहुंचा था। इस तेजी से निवेशकों को 6.83 लाख करोड़ रुपए का फायदा हुआ। 

बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन बढ़कर 145.37 लाख करोड़ रुपए हो गया। गुरुवार को 138.54 लाख करोड़ रुपए था। सेंसेक्स के 30 में से 25 और निफ्टी के 50 में से 44 शेयर बढ़त के साथ बंद हुए। एनएसई पर 11 में से 10 सेक्टर इंडेक्स फायदे में रहे। ऑटो इंडेक्स में सबसे ज्यादा 9.9% तेजी आई। यह मई 2009 के बाद सबसे ज्यादा है।

सेंटीमेंट में सुधार होना बाजार के लिए अहम: विश्लेषक

सेंट्रल वेल्थ मैनेजमेंट के हेड (इक्विटी एडवाइजरी) देवांग मेहता का कहना है कि सरकार के ऐलानों से आर्थिक विकास की रफ्तार में तेजी आएगी। इससे कॉरपोरेट और कैपिटल मार्केट में जोश भर गया है। सेंटीमेंट में सुधार होना ज्यादा अहम है। क्योंकि, सेंटीमेंट बिगड़ने की वजह से पिछले दिनों बाजार निचले स्तरों पर पहुंच रहा था।

इस साल चौथी बार सेंसेक्स में सबसे ज्यादा बढ़त

इस साल में यह चौथा मौका था, जब एक दिन में सेंसेक्स में इतनी ज्यादा बढ़ोतरी दर्ज की गई। इससे पहले सबसे ज्यादा बढ़त 20 मई को देखी गई थी। दरअसल, 19 मई को लोकसभा चुनाव के एग्जिट पोल के नतीजे आने के बाद बाजार में तेजी आई थी। उस वक्त सेंसेक्स 1482 अंक की बढ़त के साथ 39,353 पर बंद हुआ था।

सेंसेक्स के 30 में से 25 शेयर फायदे में

सेंसेक्स के 30 में से 25 और निफ्टी के 50 में से 44 शेयर फायदे में कारोबार कर रहे हैं। सेंसेक्स में हीरो मोटकॉर्प का शेयर 12% से ज्यादा बढ़ा। इसके बाद मारुति का शेयर 11%, इंडसइंड बैंक और एसबीआई का शेयर 10% से ज्यादा बढ़ा। दूसरी ओर, पॉवरग्रिड का शेयर 2.39% तक गिरा। इन्फोसिस, टीसीएस और एनटीपीसी के शेयरों में भी 2% तक की गिरावट आई।

5 जुलाई से पहले शेयर बायबैक की घोषणा तो टैक्स नहीं लगेगा

वित्त मंत्री ने बताया कि शेयरों की बिक्री से कैपिटल गेन पर सरचार्ज बढ़ोतरी लागू नहीं होगी। जिन कंपनियों ने 5 जुलाई से पहले शेयर बायबैक की घोषणा की थी, उन पर भी टैक्स नहीं लगेगा। बजट में इसका ऐलान किया गया था।