Loading...

कमलनाथ को गुरु गोबिंद सिंह के समकक्ष बताया, सिख समाज भड़का | MP NEWS

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ के लिए सोशल मीडिया पर प्रचार प्रसार करने वाली TeamKamalNath ने एक पोस्टर वायरल किया है। इस पोस्ट में सीएम कमलनाथ को गुरु गोबिंद सिंह के समकक्ष बताया गया है। कहा जाता है कि facebook के TeamKamalNath पेज पर बिना अप्रूवल के कोई पोस्ट शेयर नहीं होती। 

दिल्ली के थाने में शिकायत दर्ज

मध्यप्रदेश के सीएम कमलनाथ के खिलाफ दिल्ली के एक थाने में सिखाें की धार्मिक भावनाएं आहत करने की शिकायत की गई है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके और पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष कुलदीप सिंह भोगल ने नाॅर्थ एवेन्यू थाने में दी शिकायत में कहा, कमलनाथ के फेसबुक पेज पर गुरबाणी तोड़-मरोड़कर लिखी गई है।

कमलनाथ ने कई फेसबुक पेजों पर एक पोस्ट डाली है

कमलनाथ की प्रशंसा में लिखी गई पंक्तियां गुरु गोबिंद सिंह की रचना मानी जाती हैं। टीम कमलनाथ ने अपने कई फेसबुक पेजों पर एक पोस्ट डाली है। इसमें कमलनाथ की फोटो लगाकर “सवा लाख से एक लड़ाऊं, चिड़िया से मैं बाज तुड़ाऊं, तबै कमलनाथ नाम कहाऊं’ लिखा है। इसे लेकर सिखाें में कमलनाथ के प्रति गुस्सा है। जीके और भाेगल ने कहा कि कमलनाथ ने एक तरह से गुरु गोबिंद सिंह की बराबरी की कोशिश की है। 

कमलनाथ ने स्पष्टीकरण जारी किया

मुख्यमंत्री कमलनाथ की ओर से कहा गया है कि सिख समाज गुरुबानी को लेकर की गई फेसबुक पोस्ट पूरी तरह से फर्जी है। ऐसा जिसने भी किया, उसे बख्शा नहीं जाएगा। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया विभाग के समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि इस पोस्ट का न कांग्रेस का और न कांग्रेस के किसी कार्यकर्ता से कोई लेना-देना है। यह किसी की साजिश है। इसकी सायबर सेल में शिकायत भी दर्ज करवाई जा चुकी है। किसी ने कमलनाथ का फोटो लगाकर षडयंत्र किया है। जो भी हो, उसे नहीं छोड़ा जाएगा। 

सोशल मीडिया पर कमलनाथ प्रचार की सबसे बड़ी ऐजेंसी है टीम कमलनाथ

बता दें कि टीम कमलनाथ सोशल मीडिया पर कमलनाथ का प्रचार करने वाली सबसे बड़ी ऐजेंसी है। विधानसभा चुनाव और उसके बाद अब तक 'जय जय कमलनाथ' का नारा इसी टीम द्वारा लगातार प्रचारित किया जाता है। पूर्व में भी यह टीम कमलनाथ को 'महान राजा' और देवतुल्य बता चुकी है। सूत्रों का कहना है कि यह टीम सरकारी एमएलए रेस्टहाउस से अपने सोशल मीडिया अभियानों का संचालन करती है। बताया जाता है कि यह कमलनाथ की प्राइवेट टीम है, परंतु इसे सरकारी सुविधाएं भी मिलतीं हैं।