YOGI ADITYANATH की छवि धूमिल करने के आरोप में 3 पत्रकार गिरफ्तार | NATIONAL NEWS

नई दिल्ली। उत्तरप्रदेश पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के बारे में एक महिला द्वारा लगाए गए आरोपों पर टीवी डिबेट का आयोजन करने वाले न्यूज चैनल के संचालक एवं चेनल हेड को गिरफ्तार कर लिया गया। पीड़िता के बयान को ट्वीट करने वाले एक अन्य पत्रकार को भी गिरफ्तार कर लिया गया। 

नोएडा पुलिस ने न्यूज़ चैनल के संपादक अनुज शुक्ला और चैनल हेड इशिका सिंह को गिरफ़्तार किया है। सोशल मीडिया पर पीड़िता का बयान शेयर करते हुए टिप्पणी करने वाले गिरफ्तार पत्रकार का नाम प्रशांत कनौजिया है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने उसे दिल्ली से गिरफ्तार किया। पुलिस ने प्रशांत पर सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी करने तथा अफवाह फैलाने के आरोप लगाए और आईपीसी 500, 505 और आईटीएक्ट की धारा 67 के तहत मामला दर्ज किया। पुलिस का कहना है कि ये चर्चा बिना तथ्यों के जांच के की गई। पुलिस का ये भी दावा है कि ये चैनल बिना लाइसेंस के चल रहा था।

घटनाक्रम से जुड़ीं 8 बड़ी बातें
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक चैनल ने 6 जून को एक परिचर्चा आयोजित की थी, जिसमें एक महिला द्वारा योगी पर लगाए गए कथित अपमानजनक आरोपों पर चर्चा की गई। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि एक राजनीतिक दल से संबद्ध कार्यकर्ताओं ने महिला का दावा तथ्यों को सत्यापित किए बगैर प्रसारित करने को लेकर न्यूज चैनल के खिलाफ शिकायत करने के लिए पुलिस से संपर्क किया था।
गौतम बुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्ण ने कहा, ‘इससे कानून व्यवस्था के लिए परेशानी खड़ी हो सकती थी'।उन्होंने बताया कि जांच के दौरान यह पाया गया कि चैनल के संचालित होने के लिए कोई जरूरी लाइसेंस भी नहीं था। इस सिलसिले में थाना फेस 3 पुलिस ने उक्त चैनल के संपादक और चैनल हेड के खिलाफ दो अलग-अलग मामले दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।
दूसरी ओर पत्रकार प्रशांत कनौजिया के खिलाफ हजरतगंज थाने में शुक्रवार रात में एक सब इंस्पेक्टर द्वारा प्राथिमकी दर्ज कराई गई थी। इसमें आरोप लगाया गया है कि आरोपी ने मुख्यमंत्री के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की और उनकी छवि धूमिल करने का प्रयास किया।  
कनौजिया के टि्वटर हैण्डल पर लिखा है कि वह आईआईएमसी और मुंबई विश्वविद्यालय के छात्र रह चुके हैं और कुछ मीडिया संगठनों से जुड़े हैं।