Loading...

JEE ADVANCE 2019 चूक गए 6.5 लाख स्टूडेंट्स के लिए नए ऑप्शन

JEE ADVANCE को CLEAR करना किसी भी STUDENT के लिए बड़ा टास्क होता है। वो अपनी पूरी ताकत लगा देता है परंतु जरूरी नहीं कि सभी स्टूडेंट्स JEE ADVANCE क्लीयर कर पाएं। JEE ADVANCE 2019 के लिए कुल 9 लाख स्टूडेंट्स शामिल हुए थे लेकिन सिर्फ 2.5 लाख ही क्लीयर कर पाए। 6.5 लाख छात्र चूक गए हैं। इन 6.5 लाख छात्र और उनके पेरेंट्स को यह याद रखना चाहिए तक वो केवल JEE ADVANCE 2019 चूक गए हैं। करियर से नहीं चूक गए हैं। अभी और भी कई विकल्प (OPTION) हैं। ज्यादातर छात्र इनके बारे में नहीं जानते। इसीलिए पेरेंट्स स्ट्रेस में और छात्र डिप्रेशन में चले जाते हैं। हम आपको बताना चाहते हैं कि अब भी आपके लिए कई ऑप्शन बचे हैं जिनको आप आजमा सकते हैं... 

राज्य स्तर पर कई इंजिनियरिंग परीक्षाएं होती हैं। उनमें से कुछ यूपीजेईई, डब्ल्यूबीजेईई, एमएचटी-सीईटी, टीएनईए आदि हैं। आप इन परीक्षाओं में बैठ सकते हैं। जेईई अडवांस्ड के मुकाबले ये परीक्षाएं थोड़ी आसान होती हैं। कई प्राइवेट यूनिवर्सिटियां जैसे एसआरएम, वीआईटी, बिट्स आदि भी प्रवेश परीक्षाओं का आयोजन करती हैं। बिड़ला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी, वेल्लोर इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी, एसआरएम यूनिवर्सिटी, मणिपाल यूनिवर्सिटी आदि में भी इंजिनियरिंग के कई अच्छे कोर्स ऑफर किए जाते हैं। भले ही वे आईआईटीज और एनआईटीज के मुकाबले की नहीं हैं लेकिन ज्ञान हासिल करने के लिए बहुत अच्छे संस्थान हैं। लेकिन जब बात प्राइवेट यूनिवर्सिटी की हो तो आपको बहुत सावधानी से चयन करना होगा। ऐडमिशन से पहले कॉलेज के रेप्युटेशन, रैंकिंग और प्लेसमेंट के बारे में जानकारी हासिल कर लें।

अन्य कोर्सों का विकल्प बीटेक कोर्सों में आमतौर पर जेईई के आधार पर दाखिला होता है। इसके अलावा साइंस से संबंधित अन्य कोर्स जैसे बीएससी, बीबीए आदि भी आप कर सकते हैं। ये कोर्स भी साइंस से संबंधित हैं। इनमें 12वीं क्लास के मार्क्स के आधार पर दाखिला होता है। इसके अलावा विज्ञान के छात्रों के लिए कई नए कोर्स भी हैं। आप अपनी स्ट्रीम को बदलकर लॉ, आर्किटेक्चर आदि जैसे प्रफेशनल प्रोग्राम को भी चुन सकते हैं। आप बीसीए (कंप्यूटर ऐप्लिकेशंस), बी.आर्क (आर्किटेक्चर), बीएससी एविएशन (कमर्शल पायलट ट्रेनिंग के साथ), बीएससी नौटिकल साइंस (मर्चैंट नेवी ट्रेनिंग), इंडस्ट्रियल/प्रॉडक्ट डिजाइन में बीडीईएस, बीएफटेक (फैशन टेक्नॉलजी) में भी आप करियर बना सकते हैं। इन कोर्सों को करने से आपको पेशेवराना दक्षता हासिल हो जाती है जिससे आप अपने करियर को बुलंदी पर पहुंचा सकते हैं। 

प्योर साइंस में विकल्प आप केमिस्ट्री, फिजिक्स या मैथमेटिक्स में बीएससी कर सकते हैं। ये भी इंजिनियरिंग की ही तरह आकर्षक विकल्प हैं। इन फील्ड्स में डिग्री हासिल करने से प्योर और अप्लाइड रिसर्च के मैदान में प्रफेशन बनाने के ढेरों मौके मिलते हैं। आप रोबॉटिक्स, कंप्यूटेशनल फिजिक्स, एयरोडाइनैमिक्स, डेटा साइंस, फॉर्माकोलोजिकल रिसर्च, ऑपरेशनल रिसर्च में संभावनाएं तलाश सकते हैं। आईआईएससी, आईआईएसईआर, आईएसआई, दिल्ली यूनिवर्सिटी, लोयोला कॉलेज जैसे स्थान प्योर साइंसेज के कोर्स ऑफर करते हैं। 

इस तरह के सवाल पूछे गए थे
I just failed to qualify for JEE Advanced. now what i can do.
If i failed to crack jee advance. Is my career over.
Not Qualified for JEE Advanced, can i Try any options before taking a year drop.