Loading...

GK HINDI | AC में 1.5 टन, 2.0 टन का क्या अर्थ होता है

AC यानी एयर कंडीशनर जो आपके कमरे को ठंडा कर देता है और बाहर की गर्मी से बचाता है। यह 2 प्रकार के होते हैं स्प्लिट और विंडो। स्प्लिट वो जिसकी मुख्य यूनिट छत पर या बाहर दीवार पर टांग दी जाती है और कूलिंग यूनिट आपके रूम के अंदर होती है। विंडो यानी वो जिसमें पूरी मशीन एक ही यूनिट में होती है। इसे खिड़की पर लटकाया जाता है। आगे वाला हिस्सा रूम के अंदर और पीछे वाला हिस्सा रूम के बाहर होता है। यह तो सब जानत हैं परंतु क्या आप जानते हैं एसी में 1.5 टन, 2.0 टन का क्या अर्थ होता है। आइए पता करते हैं: 

गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय से B tech यांत्रिक अभियांत्रिकी, आयुष शर्मा (Ayush Kumar Sharma) बताते हैं कि वैसे तो टन में भार को मापा जाता है, लेकिन एसी खरीदते समय सभी लोग उसके निर्धारित टन के बारे में बात करते है। यहां टन का आशय एसी की कूलिंग क्षमता से है। यानी एक चीज स्पष्ट है कि यह वजन नहीं होता। इसका एसी के वजन से कोई रिश्ता नहीं होता। 

सबसे पहले समझते है कि टन क्या होता है:- 

चलिए मान लेते है की आपके पास 1 टन यानी 1000 kg बर्फ है, जिसका तापमान 0° है। आप इस बर्फ का पानी बनना चाहते है, जबकि पानी का तापमान भी 0° ही रहे, अब इस बर्फ को पानी में बदलने के लिए आपके पास 24 घंटे है। आप 24 घंटे के अंदर बर्फ को पानी से बदल देना चाहते है तो आपको इसे गरम करना होगा, गरम करने में प्रयोग हुई ऊर्जा ही आपकी टन (एसी वाली) कहलाती है।

इसे कुछ इस तरह से समझिए

यहां स्पष्ट करना उचित होगा कि 1 टन= 3504 वॉट = 3.5 किलोवॉट
अगर हम 1.5 टन लगाए तो 5256 वॉट यानी 5.25 किलोवॉट हो जाएगा। 
तो एसी पर लिखा हुआ 1.5 टन का मतलब है कि एसी 5.27 किलोवॉट ऊर्जा को खर्च करेगा।
धन्यवाद।।
यदि आपके पास भी हैं ऐसी ही कुछ मजेदार जानकारियां तो कृपया हमें जरूर भेजें। हमारा ईपता तो आपको पता ही है: editorbhopalsamachar@gmail.com