Loading...

कमलनाथ की कौन सुनता है, डॉक्टर अपने टाइम पर ही आ रहे हैं | BHOPAL MP NEWS

भाेपाल। मध्यप्रदेश के सरकारी डॉक्टरों ने मुख्यमंत्री कमलनाथ के आदेश को अस्वीकार कर दिया है। उन्होंने ना कोई निवेदन किया और ना ही अपना पक्ष रखा लेकिन आदेश का पालन भी नहीं कर रहे। वो उसी तरह अस्पताल में आ रहे हैं जैसे पहले आया करते थे। प्रदेश के ग्रामीण इलाकों की बात क्या करें, भोपाल के सबसे उम्दा अस्पताल जेपी हॉस्पिटल में यही हाल हैं।

मरीज मुख्यमंत्री की बात मानकर अस्पताल पहुंच रहे हैं, डॉक्टर नहीं मिलते

सीएम कमलनाथ ने सरकारी अस्पतालाें में ओपीडी का समय बदलकर सुबह 9 से शाम 4 बजे तक कर दिया है लेकिन जेपी अस्पताल समेत डिस्पेंसरियां में दाेपहर बाद मरीजाें काे इलाज नहीं मिल रहा है। डाॅक्टर सुबह 10-11 बजे तक पहुंच रहे हैं। लंच टाइम दोपहर 1.30 बजे है, लेकिन डाॅक्टर 12-12.30 बजे तक ही उठ जाते हैं। दाेपहर 2.15 बजे लंच खत्म हाे जाता है, लेकिन डाॅक्टर 3 बजे तक नहीं आते हैं। ऐसे में मरीजाें काे दिन-दिन भर इंतजार करना पड़ रहा है। यानी शासन के निर्देशों का भी डॉक्टरों पर असर होता नहीं दिख रहा है।

टूटा हुआ हाथ लेकर 12:30 से 3 बजे तक इंतजार करता रहा मरीज

दाेपहर 1.01 बजे...ए ब्लाॅक के रूम नंबर 26, डाॅ. वायपी पटेल केबिन में नहीं हैं। 12 मरीज इंतजार कर रहे हैं। बरखेड़ा पठानी निवासी इनामउलहक सिद्दीकी की बेटी राेजी काे हाथ में फ्रेक्चर हुआ है। वे 12.30 बजे अस्पताल पहुंचे। उस वक्त डाॅ. पटेल मरीज देख रहे थे, लेकिन चंद मिनट बाद ही चले गए। स्टाफ ने बताया कि ढाई बजे लंच के बाद आएंगे, लेकिन वे 3 बजे आए।

सालिनी मिश्रा सुबह 10 बजे आ गईं थीं, 3 बजे तक डाॅ. अशाेक बांठिया नहीं आए

दाेपहर 1.15 बजे -फर्स्ट फ्लाेर पर रूम नंबर 54 में डाॅ. अशाेक बांठिया बैठते हैं। केबिन के बाहर 20 से ज्यादा मरीज इनका इंतजार कर रहे हैं। अरेरा काॅलाेनी निवासी सालिनी मिश्रा के बेटे उज्जवल काे कान में परेशानी है। वे 10 बजे से बैठी हैं, लेकिन डाॅ. बांठिया नहीं है। तीन बजे जब तक डाॅक्टर नहीं आए ताे सालिनी बिना इलाज कराए लाैट गईं।

डॉक्टर दुबे, शुक्ला और श्रीवास्तव लंच के लिए गए तो लौटे ही नहीं

दाेपहर 2.58 बजे....रूम नंबर 42 डाॅ. वीके दुबे, रूम नंबर 40 डाॅ. एके शुक्ला और रूम नंबर 39 डाॅ. राकेश श्रीवास्तव लंच के लिए गए ताे तीन बजे तक नहीं लाैटे। इनके केबिन के बाहर 15 से ज्यादा मरीज बैठकर इंतजार कर रहे हैं। अर्जुन नगर निवासी सुरेश यादव काे पेट में दर्द है वे 2.30 बजे से डाॅक्टर के आने का इंतजार कर रहे हैं। 

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा: किसी भी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहींं होगी

डाॅक्टर ओपीडी के नए समय का पालन नहीं कर रहे हैं? इस पर स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्राें के मरीजाें काे ध्यान में रखकर ओपीडी का समय बदला है। किसी तरह की लापरवाही बर्दाश्त नहीं करेंगे। जेपी में डॉक्टर समय से नहीं पहुंचते और पहले ही उठकर चले जाते हैं? ऐसे डाॅक्टराें के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, हमने विभाग के अधिकारियाें काे इस संबंध में स्पष्ट निर्देश दिए हुए हैं। जेपी में मरीजाें काे घंटाें डाॅक्टराें का इंतजार करना पड़ रहा है? इस सवाल पर उन्होंने कहा- सा नहीं हाेगा, अधिकारी माॅनीटरिंग कर रहे हैं। मैं खुद भी इसकी समीक्षा करूंगा।

स्टाफ को चेतावनी दी है

जेपी अस्पताल के सिविल सर्जन डाॅ. आईके चुघ ने कहा, "डाॅक्टर समेत अन्य स्टाफ काे सुबह नाै बजे से चार बजे तक ड्यूटी करना अनिवार्य है। सभी लाेग अपनी ड्यूटी समयानुसार करें, इसके लिए चेतावनी लेटर जारी किया गया है।"