Loading...

BHOPAL बारिश में भीगीं EVM, किसके वोट बचे किसके डूब गए 23 को पता चलेगा | MP NEWS

भोपाल। लोकसभा चुनाव 2019 मतदान के बाद ईवीएम मशीनें जमा कराने से ठीक पहले अचानक हुई बारिश ने संशय की स्थिति स्थिति पैदा कर दी है। लाल परेड मैदान पर लगा टेंट वॉटर प्रूफ नहीं था। रात करीब 11 बजे अचानक बारिश शुरू हुई जो 20 मिनट तक चली। अधिकारियों का दावा है कि सभी मशीनें सुरक्षित हैं परंतु ईवीएम एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है, पानी ने उसे प्रभावित किया या नहीं यह तो 23 मई को ही पता चलेगा जब मतगणना के लिए उन्हे फिर से स्टार्ट किया जाएगा। फिलहाल देर रात तक पुरानी जेल स्थित स्ट्रांग रुम में रखवा दिया गया है। 

ईवीएम को बारिश से बचाने की कोशिश करते रहे


जानकारी के मुताबिक भोपाल जिले की 7 विधानसभा सीटों की 2253 पोलिंग बूथों की ईवीएम को लेकर मतदान दल के कर्मचारी और अधिकारी रात 8 बजे से लाल परेड मैदान पहुंचना शुरू हुए थे। यहां पर ईवीएम को हैंडओवर किए जाने की प्रक्रिया चल ही रही थी कि रात 11 बजे के बाद तेज हवा के साथ बौछारें शुरू हो गई। करीब 20 मिनट तक बारिश का दौर चला। इस दौरान मतदान दल के कर्मचारी और अधिकारी अपने अपने तौर तरीकों से ईवीएम को बारिश से बचाने की कोशिश करते रहे। एडीएम सतीश कुमार एस ने बताया कि 95 फीसदी मतदान दल से ईवीएम जमा करा ली गई हैं। बारिश के दौरान ईवीएम मशीनें को सुरक्षित स्थान पर रखवा दिया गया था।

ईवीएम पहुंचीं स्ट्रांग रूम, 23 को निकाला जाएगा 


भोपाल संसदीय सीट में चुनाव के बाद देर रात ईवीएम मशीनें भोपाल की पुरानी जेल में बनाए गए स्ट्रांग रूम में सुरक्षित पहुंचा दी गई हैं। इसकी निगरानी सीसीटीवी कैमरे के जरिए 24 घंटे की जाएगी। हर आने-जाने वाले अधिकारी-कर्मचारी को जांच के बाद ही प्रवेश दिया जाएगा। जिला निर्वाचन अधिकारी सुदाम पी खाडे ने बताया कि मशीनें तय समय पर स्ट्रांग रूम पहुंच गई हैं। राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों की मौजूदगी में स्ट्रांग रूम को सील कर दिया गया है। सुरक्षा की जिम्मेदारी सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों को सुरक्षा में तैनात किया गया है।