Loading...

महाराजा 5 साल काम करते तो गली-गली की खाक नहीं छाननी पड़ती: शिवराज सिंह | MP NEWS

भोपाल। पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने गुना लोकसभा क्षेत्र में आयोजित सभाओं को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार ज्योतिरादित्य सिंधिया पर बड़ा हमला किया। कहा कि यदि 5 साल काम करते तो इस तरह उन्हे और उनके पूरे परिवार को गली-गली की खाक नहीं छाननी पड़ती। 

मैं अपने चुनाव में कभी प्रचार नहीं करता

पूर्व मुख्यमंत्री ने गुना जिले की सभाओं में सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि महाराजा को पार्टी ने यूपी की जिम्मेदारी दी, लेकिन वे गुना से ही बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। श्री चौहान ने कहा कि मैं जब चुनाव लड़ता हूं तो अपने क्षेत्र में कभी भी प्रचार के लिए नहीं गया। मैं सिर्फ अपने क्षेत्र में वोट डालने जाता हूं, लेकिन गुना, चंदेरी की जनता ने महाराजा को गली-गली की खाक छनवा दी। अकेले महाराज ही नहीं, बल्कि पूरा परिवार घूम रहा है। यदि पांच साल काम करते तो यह स्थिति नहीं बनती।

बिजली जाती है, तो मामा याद आते हैं

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अब जब भी प्रदेश में बिजली जाती है, तो मामा याद आते हैं। मेरे भांजे-भांजियों के कॉलेजों की फीस भरता था, लेकिन अब जब वे फीस भरेंगे तो उन्हें भी मामा याद आएगा। बुजुर्गों को तीर्थदर्शन यात्रा करवाता था, लेकिन इन्होंने वह भी बंद करवा दी। अंतिम संस्कार के लिए पांच हजार रूपए देता था, लेकिन इन्होंने वह भी बंद करवा दिए।

हमारी सड़कों पर नारियल फोड़ रहे हैं

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस की सरकार ने विकास के कार्य तो एक भी नहीं किए, अब ये हमारी बनाई हुई सड़कों पर ही नारियल फोड़ रहे हैं। इनकी सरकार ने तो एक किलोमीटर की सड़क तक नहीं बनाई। इनकी सरकार ने प्रदेश में विकास कार्य ठप्प करवा कर सिर्फ तबादला उद्योग शुरू किया है। सरकार बनाने के बाद से अब तक सिर्फ तबादले किए हैं और जब इनके घरों पर आयकर के छापे पड़े तो नोटों की गड्डियां ही गड्डियां निकली। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार करने में कांग्रेस तेरी गजब गति, चार महीने में ही अरबपति। श्री चौहान ने कहा कि भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने के लिए चौकीदार का मजबूत होना जरूरी है, इसलिए कमल का बटन दबाएं, भाजपा के उम्मीदवार को जिताएं और श्री नरेंद्र मोदी को फिर प्रधानमंत्री बनाएं।