Loading...

MP NEWS: मप्र की राज्यपाल मोदी के लए वोट मांग रहीं हैं ? वीडियो वायरल

भोपाल। भारत में राष्ट्रपति या राज्यपाल को किसी भी तरह की राजनीति करने की अनुमति नहीं है परंतु मध्य प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भाजपा का समर्थन करती नजर आईं। एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें मध्यप्रदेश की राज्यपाल लोकसभा चुनाव से पहले नरेंद्र मोदी का ख्याल रखने की बात कर रहीं हैं। कांग्रेस ने उनकी तीखी आलोचना की है। 

कांग्रेस के मंत्री गोविंद सिंह का कहना है कि राज्यपाल को अपने पद की गरिमा का ख्याल नहीं है। रीवा में राज्यपाल ने ग्रामीणों से बातचीत कर रहीं थीं, उन्होंने कहा कि हमारे यहां पढ़ाई करके इंजीनियर विदेश चले जाते है, यहां उतनी सैलरी नही मिलती, डॉक्टरों पढ़ने के बाद ग्रामीण क्षेत्रो में जाना नही चाहते, मेरा बेटा भी डॉक्टर होगा तो वो नही जाएगा, जब ग्रामीणों ने फिर रोजगार की बात कही तो जाते जाते राज्यपाल ने ग्रामीणों से कहा मोदी साहब का ध्यान रखो।

इसके बाद राज्यपाल के इस बयान का वीडियो वायरल हो गया। कांग्रेस तुरंत हरकत में आ गई। कांग्रेस के मंत्री गोविंद सिंह ने कहा कि वो सीएम रही हैं मंत्री रहीं हैं, उन्हें बरसों इसी तरह की ट्रेनिंग मिली है लेकिन वो राज्यपाल के पद की गरीमा भूल बीजेपी की एजेंट बनकर काम कर रही हैं। इसके साथ ही सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह ने राज्यपाल के रवैये पर सवाल उठाया कि पहले भी राज्यपाल बीजेपी के प्रति अपनी निष्ठा दिखा चुकी हैं। विधानसभा में अभिभाषण के वक्त उन्होने एक और तो कांग्रेस के प्रमुख वादों को नजरअंदाज किया वहीं उन्होंने सदन में बीजेपी का नारा भी पढ़ दिया जो अभिभाषण में लिखा ही नहीं था। 

इसके साथ ही गोविंद सिंह ने कहा की राज्यपाल को जब बीजेपी की कार्यकर्ता बनकर ही काम तो उन्हें राज्यपाल के पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्हें एक पल भी राज्यपाल की कुर्सी पर बैठने का हक नहीं है। दूसरी ओर मामले में बीजेपी बैकफुट पर है। बीजेपी का कहना है कि राज्यपाल का पद गरीमामय है और कांग्रेस को राज्यपाल के बयान पर कोई आपत्ति होनी ही नहीं चाहिए क्योंकि पीएम किसी दल विशेष का नहीं होता। बीजेपी सांसद आलोक संजर ने कहा कि कांग्रेस को संवैधानिक पद पर उंगली उठाने से सोचना चाहिए।