बेटियों को इंजीनियर बनाने का मौका, UDAAN by CBSE की शर्तें बदलीं, पढ़िए क्या क्या मिलेगा

भोपाल। बेटियों को इंजीनियरिंग (ENGINEERING) फील्ड से जोड़ने के लिए सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (सीबीएसई) ने पहल की है। इसके लिए CBSE BOAD द्वारा चल रहे उड़ान प्रोजेक्ट (UDAAN PROJECT) के तहत अब कई और सुविधाएं दी जाएंगी। सबसे पहले बोर्ड ने होनहार बेटियों (GIRLS) से फॉर्म भरने में लगने वाले शुल्क (FORM FEES FREE) एक हजार रुपए को नहीं लेने का निर्णय लिया है।

उड़ान प्रोजेक्ट में जाने को इच्छुक छात्राओं को अब केवल ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा (ONLINE ENTRANCE EXAM) पास करनी होगी। इसमें वही छात्राएं अब आवेदन कर पाएंगी, जिन्हें 10वीं बोर्ड में विज्ञान और गणित (SCIENCE AND MATH) में 70 फीसदी तक अंक आए हैं। मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD) के सहयोग से सीबीएसई ने उड़ान प्रोजेक्ट की शुरुआत की थी। इसके तहत कक्षा 11वीं और 12वीं में विज्ञान और गणित से पढ़ने वाली छात्राओं (GIRL STUDENT) को बोर्ड की तरफ से इंजीनियरिंग की तैयारी करवाई जाती है। कक्षा 12वीं की पढ़ाई के साथ-साथ ये छात्राएं इंजीनियरिंग की तैयारी में हर तरह की सुविधा बोर्ड द्वारा दी जाती है। इसके माध्यम से 1000 छात्राओं का चयन किया जाएगा। (PCMB (Physics, Chemistry, Maths & Biology) वाले भी आवेदन कर सकते हैं। 

दोनों फॉर्मेट में रहेंगी बुक्स: 
छात्राओं को किताबों की दिक्कत न हो, इसके लिए बोर्ड ऑनलाइन किताबें उपलब्ध करवाएगा। बोर्ड की वेबसाइट पर ही संबंधित विषयों की किताबें ऑनलाइन होंगी। इसके अलावा छात्राएं बोर्ड से ऑफलाइन किताबें भी मंगवा सकती हैं। 

वैकल्पिक विषय: 
स्कूली छात्राओं को भविष्य में तकनीकी क्षेत्र में दक्ष करने के लिए सीबीएसई आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) को वैकल्पिक विषय के तौर पर लाने जा रहा है। एआई, डेटा एनालिसिस और मशीन लर्निंग जैसे पाठ्यक्रमों को शामिल करने की सीबीएसई के कौशल शिक्षा और प्रशिक्षण विभाग ने सहमति दे दी है। पहले इसे 8वीं से 10वीं तक शुरू करने का प्रस्ताव है। बाद में इसे कक्षा 12वीं तक भी किया जा सकता है। पूरे देश में सीबीएसई से संबद्ध 22,299 स्कूल हैं, जबकि 220 स्कूल अन्य देशों में भी हैं। 

छात्रवृत्ति (SCHOLARSHIP) मिलेगी: 
उड़ान के तहत इंजीनियरिंग की तैयारी करवाने के साथ-साथ जो छात्राएं आईआईटी या इंजीनियरिंग कॉलेज की पढ़ाई करना चाहती हैं उन्हें बोर्ड छात्रवृत्ति देगा। 

ऑनलाइन ट्यूटर की भी मिलेगी सुविधा : 
छात्राओं को जेईई की तैयारी के संबंध में कोई परेशानी नहीं आए, इसके लिए बोर्ड ने फ्री ट्यूटर की सुविधा शुरू की है। इसके लिए सीबीएसई स्कूलों में नियुक्त विषय विशेषज्ञ शिक्षक पढ़ाएंगे। इसके लिए सीबीएसई देशभर से शिक्षकों का चयन करेगी। इसके लिए आवेदन सीबीएसई की वेबसाइट पर कर सकते हैं। इसके अलावा इन टीचर के वीडियो को ऑनलाइन भी अपलोड किया जाएगा।

Who Can Join
The program is open to Indian citizens residing in India only. .
• All girl students studying in classes XI of KVs/ NVs/ Government Schools of any recognised Board/ CBSE affiliated private schools in India are eligible to apply based on criteria given above.
• The selection of the students will be based on merit and will be considered against the city chosen by the candidate for the weekly virtual contact classes.
• Girl students enrolled in Class XI in Physics, Chemistry, Mathematics (PCM) stream.
• Minimum 70% marks in Class X overall and 80% marks in Science and Mathematics;for Boards which follow CGPA, a minimum CGPA of 8 and a GPA of 9 in Science and Mathematics.
• Reservation as per JEE (Advanced);OBC (NCL) - 27 % , SC – 15 % , ST – 7.5 % ,PWD – 3 % of seats in every category
• The annual family income should be less than 6 lakhs per annum

Salient Features
• Free of cost support to Girl students of Classes XI and XII to prepare for engineering entrance examination
• Availability of tutorials, videos and study material
• Organization of Virtual contact classes at approx. 60 designated city centres
• Assessments designed to provide useful feedback on learning
• Remedial steps to correct learning
• Peer learning and mentoring opportunities for meritorious students
• Motivation sessions with students/parents
• Student helpline services to clarify doubts, monitor student learning and support technology
• Constant monitoring and tracking of student progress with feedback