बंद होने वाली है जबलपुर-इंदौर इंटरसिटी एक्सप्रेस | MP NEWS

16 July 2018

जबलपुर। जबलपुर से इंदौर तक जाने के लिए शहर के पैसेंजरों को अब दो ट्रेन ही मिलेंगी। क्योंकि जबलपुर से इंदौर जाने वाली इंटरसिटी 11701-02 ट्रेन को रेलवे जल्द ही बंद करने जा रहा है। पिछले 3 माह से इस ट्रेन को लगातार रद्द किया जा रहा है। कभी ब्लॉक का कारण बताकर तो कभी कोच की कमी बताकर ट्रेन रद्द की जा रही है। जबलपुर मंडल, पश्चिम मध्य रेलवे जोन, दोनों ने ही इस ट्रेन को बंद करने के लिए रेलवे बोर्ड से स्वीकृति मांगी है। इसके बाद बोर्ड ने पैसेंजर संख्या, रूट और घाटे से जुड़े तथ्यों का अध्ययन करना शुरू कर दिया है। वहीं रेलवे बोर्ड द्वारा अगस्त में जारी किए जाने वाले नए टाइम टेबल में इस ट्रेन को शामिल नहीं किया जाएगा।

ये चार कारण ट्रेन को बंद करने के 
ट्रेन का समय-जबलपुर से ट्रेन सुबह 5.40 पर रवाना होती है, जिससे इसे पैसेंजर नहीं मिलते।
ट्रेन का रूट- ट्रेन को कटनी, बीना, मक्सी से इंदौर ले जाया जाता है, जो बहुत लंबा रूट है।
ट्रेन की दूरी- लंबे रूट की वजह से जबलपुर से इंदौर की दूरी तकरीबन 755 किमी है।
ट्रेन का सफर- 14 स्टेशन पर रुकते हुए ट्रेन इंदौर 15 घंटे में पहुंचती है।

ट्रेन में सिर्फ 6 पैसेंजर
एक साल पहले कमर्शियल विभाग ने जबलपुर-इंदौर इंटरसिटी ट्रेन का सर्वे किया। इस दौरान जबलपुर से सुबह तकरीबन 5.40 पर रवाना हुई तो इसमें सवार पैसेंजर की संख्या गिनी गई, तब महज 6 पैसेंजर ही ट्रेन में मिले। इतनी संख्या देख मंडल से जोन तक के अधिकारी सोच में पड़ गए। पश्चिम मध्य रेलवे ने इस जानकारी को रेलवे बोर्ड को भेजा और ट्रेन को बंद करने की अनुशंसा की। हालांकि उस वक्त रेलवे बोर्ड ने राजनीतिक दबाव के कारण ट्रेन को बंद करने की बजाए रद्द करने की बात कही।

इंदौर जाने सिर्फ दो ट्रेन, वो भी रात में 
जबलपुर से इंदौर को जोड़ने वाले रेल रूट पर इस वक्त सिर्फ दो ट्रेन ही चल रही हैं। इनमें एक ओवरनाइट एक्सप्रेस और दूसरी नर्मदा एक्सप्रेस है। ये दोनों ही ट्रेन रात को तकरीबन तीन घंटे के अंतराल में हैं। यदि पैसेंजर को सुबह या दोपहर में इंदौर जाना हो तो उन्हें जबलपुर से भोपाल तक और फिर भोपाल से इंदौर तक ट्रेन लेनी होगी। हालांकि जबलपुर से भोपाल की चार ट्रेन ही हैं। इंदौर जाने के लिए जो इंटरसिटी चलाई जा रही थी, उसका रूट और दूरी कम करने की मांग कई सालों से उठती रही है, लेकिन इस पर रेलवे ने विचार करने के बजाय इसे रद्द कर दिया।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week