मेरा पति रावण था, उसकी हत्या नहीं वध किया है: सुनाई रोंगटे खड़े कर देने वाली कहानी

16 June 2018

जबलपुर। चिकित्सा विभाग में डिप्टी डायरेक्टर डॉक्टर शफात उल्लाह खान की हत्या का खुलासा हो गया है। पुलिस के अलावा इस हत्याकांड की आरोपी उसकी अपनी पत्नी ने मीडिया के सामने खुलकर सारी कहानी बताई। उसने बताया कि वो हिंदू थी, शफात उल्लाह खान के साथ उसने लवमैरिज की थी परंतु उसका पति डॉक्टर नहीं रावण था। उसने और उसके अधिकारियों ने नर्स की नौकरी मांगने आईं सैंकड़ों लड़कियों का यौन शोषण किया। उसने अपनी 11 साल की भतीजी का रेप किया। इतना ही नहीं अब वो अपनी बेटी के साथ गंदी हरकतें करने लगा था। महिला ने गर्व के साथ दोहराया कि वो रावण था, उसकी हत्या नहीं वध किया गया है। 

गौरतलब है कि ओमती थानान्तर्गत भंवरताल गार्डन के सामने स्थित कृतिका अपार्टमेंट में रहने वाले डॉ शफात उल्लाह खान उम्र 55 वर्ष की मंगलवार की शाम को घर में घुसकर दो नकाबपोश युवकों ने बेहरमी के साथ हत्या कर दी थी। डॉ खान ज्वाइंट डायरेक्टर कार्यालय में डिप्टी डायरेक्टर के पद पर पदस्थ थे। आरोपियों ने डॉ खान के सीने पर धारदार हथियार से आधा दर्जन प्रहार किये थे। इसके बाद हाथ की कलाई व गला रेत दिया था। आरोपी ने घर में उपस्थित उनकी पत्नि, बेटी तथा रिश्ते के नाती को कमरें में बंद करने के बाद वारदात को अंजाम देते हुए पार्किग में रखी एक्टिवा लेकर फरार हो गये थे।

गुजरात से हायर किए थे हत्यारे

पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला ने बताया कि डॉ खान की हत्या की साजिश उनकी पत्नि आयशा खान ने रची थी। दोनों ने वर्ष 1991 में प्रेम विवाह किया था, इसके बावजूद भी दोनों में तनाव रहता था। तनाव व झगड़े का मुख्य कारण डॉक्टर की चरित्र था। डॉक्टर खान को रास्ते को हटाने के लिए उसने दुआ गुजरात निवासी अपनी भतीजी नंदिनी उर्फ जन्नत से फोन पर बात की थी। नंदिनी ने अपने पति पवन विश्वकर्मा को इस संबंध में बात की थी। पवन ने अपने साथ फैक्टरी राजेन्द्र मालवीय व धीरज को साजिश में शामिल किया। 

सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई थी हत्या 

नंदिनी उसका पति व दोनोें साथी 12 जून को जबलपुर पहुॅचे थे। दिन में डॉक्टर की पत्नि आयशा ने उनसे टैगौर गार्डन में मुलाकात की थी। इस दौरान आयशा ने दोनों लड़कों को दस हजार रूपये दिये थे तथा काम होने पर 50-50 हजार रूपये देने की बात कहीं थी। आयशा ने नंदिनी को 5 लाख रूपये तथा एक फ्लैट देने की बात कहीं थी। इसी दिन शाम को दोनों युवकोे ने डॉक्टर के घर पहुॅचकर उसकी बेहरमी से हत्या कर दी। लूट के उद्देश्य से हत्या की गयी है ऐसा दिखाने के लिए आलमारी में रखे दस हजार रूपये नगद तथा जेवरात भी आरोपी अपने साथ ले गये थे। सीसीटीव्ही कैमरे में एक युवक कैद हुआ था जो दोनों को निर्देश दे रहा था।

भतीजी के गलत बयान ने खोल दिया राज

पूछताछ के दौरान आयशा की भतीजी नंदिनी उर्फ जन्नत ने पुलिस को बताया था कि वह घटना दिनांक को दुआ गुजरात में थी। जांच में पाया गया कि घटना दिनांक को वह जबलपुर में थी। जिसके बाद उसे अभिरक्षा में लेकर पूछताछ की गयी तो उसने पूरे घटनाक्रम का खुलासा कर दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी रेलवे स्टेशन पहुॅचे थे ओर एक्टिवा स्टेशन में खड़ी कर ट्रेन से कटनी पहुॅचे थे। कटनी से आरोपी इंदौर के लिए रवाना हुए थे। पुलिस ने हत्या में शामिल बुआ-भतीजी के अलावा राजेन्द्र मालवीय उम्र 23 वर्ष को उसके गृह ग्राम बिसनखेड़ी थाना इच्छावर जिला सुजालपुर से गिरफ्तार कर लिया है। दो अन्य फरार आरोपियों की तलाश जारी है।

हिंदू थी डॉक्टर की पत्नी, लवमैरिज के बाद धर्म परिवर्तन किया

हत्या के आरोप में गिरफ्तार आयशा ने बताया कि हिन्दु होने के बावजूद भी उसने डॉ शमान उल्लाह खान से शादी की थी। उसका पति शोषण करने वाला था, पिछले 27 साल में इसी वर्ष पहली बार कपड़े खरीदने के लिए पांच हजार रूपये दिये थे। 

नर्सों को नौकरी के नाम पर वो और उसके वरिष्ठ अधिकारी यौन शोषण करते थे

आरोपी पत्नि ने बताया कि उसके पति के बाहर कई महिलों से संबंध थे। नर्से की नौकरी दिलवाने के नाम पर उसके पति व उनके वरिष्ठ अधिकारी ने कलचुरी होटल में बुलाकर कई युवतियों का शोषण किया। 

11 वर्षीय भतीजी को गर्भवती कर दिया

इतना ही नहीं जब वह तीसरी बाद गर्भवती हुई थी तो भतीजी नंदिनी उर्फ जन्नत उसके साथ रहने आई थी। उस समय जन्नत की उम्र 11 वर्ष थी। उसके पति ने मासूम भतीजी तक को नहीं बख्सा था। उसने 11 वर्षीय मासूम बच्ची को गर्भवती बना दिया था। 

बेटे के लालच में 7 बार लिंग परीक्षण कराया

पहली दो बेटियां होने के कारण उसके पति ने सात बार अनैतिक तरीके से लिंग जांच कर गर्भपात करवाया था। लिंग जांच तथा गर्भपात करने वाले डॉक्टरों के नाम का खुलासा भी आरोपी महिला ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए किया है।

रावण था वो, हत्या नहीं वध किया है

आरोपी पत्नि ने बताया कि उसके पति की गलत नजर अपने बेटी सैफी पर थी। रात को दो बजे उसके कमरे में जाकर उसे लिपट जाता था। बात घर की इज्जत की थी तो उसने पति को लिंग काटने के लिए सुपारी दी थी। नंदिनी के साथ जो हुआ था उसे जाकर उसके पति ने लिंग काटने की बजाये डॉक्टर कर हत्या करवा दी। भतीजी के साथ जब उसने पति के गलत कृत्य किया था जो वह इसलिए खामोश हो गयी क्योकि दो छोटी बेटियां थी और बेटा गर्भ में था। उसने कहा कि जिस तरह राम भगवान ने रावण को मार था, ठीक उसी तहत उसने एक पापी का वध किया है।
देश और मध्यप्रदेश की बड़ी खबरें MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

Revcontent

Popular Posts