पढ़िए SATNA वाला गौरव कैसे बना 'सतना का गौरव' | INSPIRATIONAL STORY

27 March 2018

भोपाल। सतना का रहने वाला गौरव पाठक अब 'सतना का गौरव' बन गया है। उसने मप्र पटवारी परीक्षा में 8 लाख परीक्षार्थियों को पीछे छोड़ते हुए टॉप किया है। मप्र के इतिहास में यह अब तक की सबसे बड़ी परीक्षा थी, लेकिन इस सफलता के पीछे की कहानी बड़ी रोचक है। स्कूल से जब कॉलेज आए तो इंजीनियर बनना चाहते थे। डिग्री मिलने के बाद भी नौकरी नहीं मिली तो एसआई की कोचिंग कर ली। कोचिंग का भी कोई फायदा नहीं हुआ। एसआई परीक्षा में नहीं निकल पाए। तभी पटवारी भर्ती निकली। सब भर रहे थे, इसलिए गौरव ने भी भर दिया। वो कहते हैं ना कि कोशिश करने वालों की..., कोशिश के आगे किस्मत ने घुटने टेके और गौरव पाठक अब अपने परिवार, गांव व शहर का गौरव बन चुका है।

राधारमण कॉलेज की पढ़ाई काम नहीं आई
दरअसल गौरव पाठक इंजीनियर बनना चाहते थे। राधारमण कॉलेज में इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन ब्रांच में एडमिशन लिया इंजीनियरिंग की डिग्री भी हासिल कर ली परंतु यह किसी काम नहीं आई। जब इंजीनियरिंग में भविष्य बनता नहीं दिखा तो विकल्प की तलाश की। कद काठी ऐसी थी पुलिस भर्ती के लिए कोशिश कर सकते थे अत: ठान लिया कि अब मप्र पुलिस की नौकरी करेंगे। एमपी एसआई की तैयारियां शुरू कीं। कोचिंग भी की परंतु कोई फायदा नहीं हुआ। 

एसआई में फेल होकर निराश हो गया था
इंजीनियरिंग करने के बाद माइक्रोसाफ्ट के साथ बतौर ट्रेनर छह महीने काम करने वाले गौरव पाठक कहते हैं कि अक्टूबर 2017 में हुई एसआई की परीक्षा में सफलता नहीं मिलने पर वह निराश हो गए थे। 

SI की पढ़ाई की थी, इसलिए पटवारी भी भर दिया
गौरव कहते हैं कि डेढ़ साल से एसआई परीक्षा की तैयारी कर रहा था, इसके लिए कोचिंग की, जब सफलता नहीं मिली तो पटवारी परीक्षा देने का फैसला किया क्योंकि दोनों का सिलेबस काफी मैच करता है।

ग्रेड-1 असिस्टेंट परीक्षा में टॉप किया
गौरव पाठक ने कुछ महीने पहले हुए पीईबी की ग्रेड-1 असिस्टेंट प्रोग्रामर की परीक्षा में टॉप किया था। तब मां अन्नपूर्णा पाठक और पिता जयप्रकाश पाठक दोनों काफी खुश हुए थे। इससे दूसरी परीक्षाओं के लिए आत्मविश्वास आया।

अगला टारगेट MPPSC
पटवारी परीक्षा में टॉप करना गौरव पाठक कहते हैं कि ये तो कॉमा है फुलस्टाप अभी बाकी है। वह इसे आखिरी पड़ाव नहीं मानते हैं, वह कहते हैं कि MPPSC परीक्षा उनका अगला लक्ष्य है।

छोटे छोटे लक्ष्य तय करें
परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं से गौरव कहते हैं कि छोटे-छोटे लक्ष्य तय करें। फिर उन्हें हासिल करने के लिए जुट जाएं। उन्होंने पटवारी परीक्षा पास नहीं कर पाने वालों से कहा निराश न हों। परीक्षा के दौरान तमाम तरह की अफवाहें सुनाई देती हैं, उन पर ध्यान न दें।

वीक प्वाइंट की पता करके उस पर काम करें
गौरव कहते हैं अपने स्ट्रांग प्वाइंट और वीक प्वाइंट पता होने चाहिए। कमजोरियों को ढूंढकर उन्हें दूर करें। इसके बाद सफलता के लिए पूरे दिल से मेहनत करें।

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Popular News This Week

 
-->