श्री अप्सरेश्वर महादेव: यहां अभिषेक करने से खोई प्रतिष्ठा वापस मिल जाती है

Friday, September 30, 2016

महाकाल वन में चौरासी महादेव में से एक श्री अप्सरेश्वर महादेव मंदिर है। मंदिर से जुड़ी कथा महाकाल वन की महत्ता और अप्सराओं की शिव आराधना को चित्रित करती है। अप्सराओं द्वारा पूजे गए इस लिंग से अप्सरा रम्भा का शाप दोष दूर हुआ था। यह मंदिर मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में स्थित है।
देवं सप्तदशं विद्धि विख्यातं अप्सरेश्वरं।
यस्य दर्शन मात्रेण लोकोअभीष्टानवाप्नुयात्। ।

श्री अप्सरेश्वर महादेव की कथा
पौराणिक कथाओं के अनुसार, एक बार राजा इंद्र अपनी सभा में दिव्य सिंहासन पर विराजमान हो नृत्य देख रहे थे। इंद्र ने वहां अप्सरा रम्भा को चित्त से विचलित हो लय-ताल से चूकते देखा। यह देख इंद्र देव क्रोधित हुए और बोले कि भूल करना मनुष्य की प्रवृत्ति है, जो कि देवलोक में क्षमा करने योग्य नहीं है। फिर उन्होंने रम्भा को कांतिहीन होने का शाप दे पृथ्वी लोक पर भेज दिया। 

इंद्र देव के शाप देते ही रम्भा अपनी शोभा खो पृथ्वी लोक पर गिर पड़ी और दुखी हो रुदन करने लगी। रम्भा को दुखी देख उसकी सखियां भी आकाश से नीचे आकर उसके दुख में शामिल हो गईं। तभी वहां नारदजी पहुंचे और अप्सराओं को विलाप करते देख आश्चर्यचकित हुए। उन्होंने अप्सराओं से उनके विलाप का कारण पूछा। प्रत्युत्तर में अप्सराओं ने इंद्र देव के दरबार में हुए घटनाक्रम का सम्पूर्ण वृत्तांत कह सुनाया। 

अप्सराओं की बात सुन नारद मुनि ध्यानमग्न हुए और फिर बोले कि आप सभी महाकाल वन जाएं। महाकाल वन में हरसिद्धि पीठ के सामने एक दिव्य लिंग है उसके दर्शन करें। उस लिंग की आराधना से आप सभी के समस्त मनोरथ पूर्ण होंगे। मेरे आदेश पर इसके पहले उर्वशी को भी उस लिंग के दर्शन करने से उसके पति की दोबारा प्राप्ति हुई थी। 

तब सभी अप्सराएं महाकाल वन पहुंची और वहां उन्होंने नारद मुनि द्वारा बताये दिव्य लिंग का सच्ची श्रद्धा से पूजन अर्चन किया। अप्सराओं द्वारा श्रद्धापूर्वक पूजन अर्चन से भगवान शिव प्रसन्न हुए और उन्होंने यह वरदान दिया कि आप सभी को पुनः इंद्र लोक प्राप्त होगा। अप्सराओं द्वारा पूजे जाने के कारण वह लिंग अप्सरेश्वर कहलाया।

मान्यता/ दर्शन लाभ
मान्यतानुसार श्री अप्सरेश्वर महादेव का दर्शन करने से किसी का स्थान भ्रष्ट नहीं होता है एवं एवं खोई हुई पद व प्रतिष्ठा पुनः प्राप्त हो जाती है। ऐसा भी माना जाता है कि अगर आप यहां दर्शन के लिए दूसरों को भेजेंगे तो भी आपको वही फल प्राप्त होगा और स्थान वियोग इत्यादि नहीं होगा।

कैसे पहुंचे मंदिर
उज्जैन स्थित चौरासी महादेव में से एक श्री अप्सरेश्वर महादेव का मंदिर पटनी बाजार में स्थित है। यहां आने के लिए निजी वाहनों के अलावा सिटी बस एवं टैक्सी का भी विकल्प है। उज्जैन मध्यप्रदेश के सभी बड़े शहरों से जुड़ा हुआ है। इंदौर से उज्जैन पहुंचना सबसे आसान है। सड़क मार्ग से मात्र 30 मिनट में आप पहुंच सकते हैं। इंदौर से उज्जैन के लिए बड़ी संख्या में टैक्सी और बसें मिलतीं हैं। 

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

mgid

Loading...

Popular News This Week

 
Copyright © 2015 Bhopal Samachar
Distributed By My Blogger Themes | Design By Herdiansyah Hamzah