Loading...

यहां हुआ था हनुमान जी का जन्म

हनुमान जी का जन्म झारखंड राज्य के गुमला जिला के आंजन गांव के पहाड़ पर स्थित एक गुफा में हुआ था। इसी मान्यता से लोग आज भी उस गुफा की पूजा करते हैं। लोगों का विश्वास है कि इस स्थान की पूजा करने से लोगों की मनोकामना पूरी होती है।

मान्यताओं अनुसान आंजन गांव में ही माता अंजनी निवास करती थी और इसी गांव की एक पहाड़ी पर स्थित गुफा में रामभक्त हनुमान का जन्म हुआ था। इसी विश्वास के साथ बड़ी संख्या में भक्ति और श्रद्धा के साथ माता अंजनी और भगवान महावीर की पूजा करते हैं। पहाड़ के ऊपर गुफा के समीप एक बहुत पुराना मंदिर है। मंदिर में एक ऐसी मूर्ति है जिसमें माता अंजनी की गोद में हनुमान जी बैठे हैं। स्थानीय लोग बताते हैं कि पीढ़ियों से इस मूर्ति की पूजा इलाके में की जाती रही है। गांव में पूजा के लिए देश के कोने कोने से हनुमान भक्त पहुंचते हैं। कई बार जानकारी मिलने पर विदेशियों का जत्था भी यहां आता है। 

यहां भी भगवान हनुमान के जन्म की बात
हनुमानजी की जन्म स्थली को लेकर कई मान्यताएं हैं। पहले मत के अनुसार गुमला जिला के आंजन गांव की एक गुफा में हनुमान जी का जन्म हुआ था। मान्यता है कि आंजन गांव में ही माता अंजनी निवास करती थी और इसी गांव की एक पहाड़ी पर स्थित गुफा में रामभक्त हनुमान का जन्म हुआ था। 

दूसरे मत के अनुसार हरियाणा के के कैथल उनका जन्म स्थल माना गया है। तीसरी मान्यता बताती है कि गुजरात के डांग जिला रामायण काल में दंडकारण्य प्रदेश के रूप में जाना जाता था। यह स्थल शबरी धाम के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि यहीं भगवान राम और लक्ष्मण को शबरी ने बेर खिलाए थे। इलाके के लोगों का मानना है कि डांग जिले के अंजनी पर्वत में स्थित अंजनी गुफा में ही हनुमान जी का जन्म हुआ था। 

चौथे मत के अनुसार मैसूर में उनका जन्म स्थल है। यहां हंपी के निकट बसे अनेगुंदी गांव को रामायण काल कस ​कष्किंधा माना जाता है। यहीं पंपा सरोवर के पास शबरी गुफा है। मान्यता के अनुसार इसी गुफा में हनुमानजी का जन्म हुआ था।