दीपावली पर पटाखे चलाने वाले छात्रों को इसाई स्कूल में सजा दी गई

Wednesday, October 25, 2017

त्रिची। तमिलनाडु के त्रिची में क्रिश्चियन माइनॉरिटी मैट्रीकुलेशन स्कूल में कुछ हिंदू बच्चों को इसलिए सजा दी गई क्योंकि उन्होंने दिवाली के दौरान पटाखे चलाए थे। इस मामले में स्कूल के हेडमास्टर और फिजिकल एजुकेशन टीचर के खिलाफ पलक्करै पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई गई है। एस सेतुरामन ने अपनी शिकायत में कहा है कि दिवाली पर पटाखे चलाने पर उसके बेटे और कुछ अन्य हिंदू छात्रों को स्कूल में दंडित किया गया था।

कुल मिलाकर सात छात्र सार्वजनिक रूप से शर्मिंदा किया गया था। हालांकि, स्कूल ने कहा कि वह तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा दिए गए एक सर्कुलर का पालन कर रहा था। सेतुरमन ने जोर देकर कहा कि स्कूल की इस कार्रवाई से उन्हें मानसिक पीड़ा हुई है। इस मामले में तमिलनाडु शिक्षा विभाग ने जांच का आदेश दिया है। मामले के सामने आने के बाद सोशल मीडिया में कई यूजर्स ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है।

वैसे यह पहला मामला नहीं है, जब किसी इसाई स्कूल में इस तरह की घटना सामने आई हो। इससे पहले कई ईसाई स्कूलों ने हिंदू छात्र-छात्राओं को घर पर उनकी संस्कृति और अनुष्ठानों का पालन करने के लिए सजा दी गई है। इसी तरह का एक मामला हैदराबाद में साल 2015 में सामने आया था, जब दशहरे के मौके पर मेहंदी लगाने पर कई लड़कियों को सजा दी गई थी।

तमिलनाडु के रामेश्वरम में सेंट जोसेफ स्कूल ने सबरीमलई तीर्थयात्रा के लिए तैयारी में लगे दो लड़कों को को माथे पर विभूती (पवित्र राख) लगाने के लिए निलंबित कर दिया गया था। यह आश्चर्य की बात है कि इन ईसाई स्कूलों में से अधिकांश को सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाता है। फिर भी वे स्वदेशी संस्कृति से नफरत करने के लिए बच्चों को तैयार करने के हर संभव प्रयास करते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week