SATNA के किसान ने शिवराज का सम्मान ठुकराया

Wednesday, September 13, 2017

भोपाल। सतना जिले के ख्याति प्राप्त किसान बाबूलाल दाहिया ने सीएम शिवराज सिंह का सम्मान ठुकरा दिया। शिवराज इन दिनों चित्रकूट चुनाव की तैयारियों में लगे हुए हैं। बाबूलाल दाहिया ने कहा कि मेरा सम्मान भी शिवराज का चुनावी हथकंडा है लेकिन जिस सरकार ने किसानों पर गोलियां चलवाईं हों, उससे सम्मान कैसे स्वीकार किया जा सकता है। बाबूलाल दाहिया ने जैविक खेती कर 125 किस्म की परंपरागत बीजों को संरक्षित किया है। वो दूसरे किसानों को नि:शुल्क सहायता उपलब्ध कराते हैं। शिवराज सिंह दाहिया को कृषि कर्मण अवार्ड से सम्मानित करना चाहते थे। 

मुख्यमंत्री ने चित्रकूट में सैकड़ों किसानों के बीच सतना के पिथौराबाद निवासी किसान बाबूलाल दाहिया को सम्मानित करने का निर्णय लिया था। मगर किसान ने ये सम्मान ठुकरा दिया। दहिया ने सरकार पर गंभीर आरोप भी लगाए। किसान का तर्क है कि वे मुझे पुरस्कार देकर अपनी और अपनी सरकार की वाहवाही कराना चाहते थे। एक तरफ किसानों को गोली मारी जा रही और किसान आत्महत्या कर रहा है, दूसरी तरफ मुझे सम्मान दिया जा रहा है। यह कैसा सम्मान है। 

प्रदेश में किसानों की हालत बदतर है। प्रदेश में कृषि लाभ का धंधा नहीं है और ना कभी थी।  प्रदेश सरकार पूंजीपति किसानों के आंकड़े प्रस्तुत करके प्रदेश के किसानों को खुशहाल बता रही है। कृषि को लाभ का धंधा बताती है, जबकि सच्चाई इसके बिल्कुल उलट है। दाहिया एक तकनीकी विशेषज्ञ किसान है। ऐसे किसान हैं जिन्होंने धान की 125 किस्में संरक्षित की हैं और इलाके के किसानों को नि:शुल्क मदद करते हैं। उनके इस योगदान के लिए केंद्र और प्रदेश की सरकार कई अवार्ड से नवाज चुकी है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week