शिक्षकों का POLICE वेरिफिकेशन होगा, क्रिमिनल रिकॉर्ड मिला तो बर्खास्त

Thursday, September 21, 2017

नई दिल्ली। केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में सरकारी स्कूलों के शिक्षकों का पुलिस वेरिफिकेशन प्रक्रिया शुरू की गई है। शिक्षा सचिव का कहना है कि यदि किसी शिक्षक का क्रिमिनल रिकॉर्ड मिला तो उसे तत्काल बर्खास्त कर दिया जाएगा। चंडीगढ़ प्रशासन ने पुलिस को संबंधित आदेश भेज दिया है। शिक्षा सचिव बीएल शर्मा ने बताया कि इस संदर्भ में शहर के सभी स्कूलों को गाइड लाइंस जारी कर दी गई हैं। इस संबंध में शिक्षा सचिव बीएल शर्मा ने सोमवार को डीएसई के साथ बैठक की। शर्मा ने बताया कि प्रशासन ने अपने स्तर पर सभी स्कूल प्रबंधन को टीचिंग व नान टीचिंग स्टाफ की 30 सितंबर से पहले पुलिस वेरिफिकेशन कराने के लिए कहा है। साथ ही इसकी रिपोर्ट शिक्षा विभाग के साथ प्रशासन को सौंपने के लिए कहा है। शिक्षा सचिव ने कहा कि अगर किसी का क्रिमनल रिकॉर्ड के साथ पाया गया, तो उसे फौरन नौकरी से बर्खास्त कर दिया जाएगा।

प्रशासन ने अपने स्तर पर चंडीगढ़ पुलिस को भी निर्देश जारी कर शहर के सभी स्कूलों के टीचिंग व नॉन टीचिंग स्टाफ की क्रिमनल रिकॉर्ड वेरिफिकेशन कर रिपोर्ट तैयार करने के लिए कहा है। वहीं शहर के सभी सरकारी व प्राइवेट स्कूलों में शिकायत पेटी लगाने की योजना तैयार की जा रही है। ताकि  स्टूडेंट्स को अगर किसी प्रकार कोई परेशानी हो, वे गुप्त तरीके से अपनी शिकायत डाल सकते है। शिकायत सीधा शिक्षा विभाग के पास जाएगी, जिस पर तत्काल कार्रवाई की जाएगी। स्कूल स्टाफ की ये जिम्मेदारी होगी कि कंप्लेंट बॉक्स में आने वाली शिकायत सीधा शिक्षा विभाग के पास भेजी जाए।

छात्रों के सुरक्षा की जिम्मेदारी व जवाबदेही प्रबंधन की
यूटी प्रशासन की गाइडलाइंस के मुताबिक स्कूल पहुंचने के बाद अब स्टूडेंट्स की सुरक्षा की  जिम्मेदारी प्रबंधन की होगी। बच्चा चाहे स्कूल की बस से आता हो या फिर प्राइवेट वाहन से। जूनियर विंग में केवल महिला अटेंडेंट की ड्यूटी लगाने के लिए कहा गया है।  इसके अलावा गार्डनर, स्वीपर, ड्राइवर, कंडक्टर और अटेंडेंट को बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कंसल्टेंट प्रोग्राम रखने को लेकर गाइड लाइंस जारी की।

विजिटर्स रिकॉर्ड नहीं रखा तो मान्यता होगी रद्द
प्रशासन की गाइड लाइंस के मुताबिक सभी स्कूलों को विजिटर्स रिकार्ड रखना होगा। शिक्षा सचिव ने बताया समय-समय पर शिक्षा विभाग स्कूलों के विजिटर्स रिकॉर्ड की चेकिंग करेगा। स्कूल के टीचिंग, नान टीचिंग स्टाफ और स्टूडेंट्स के अलावा हर एक विजिटर का नाम, पता व मोबाइल नंबर विजिटर्स रिकॉर्ड में रखा जाएगा। अगर कोई स्कूल विजिटर्स रिकॉर्ड मेंटेन नहीं करता है तो उसकी मान्यता रद्द करने तक का प्रावधान है।

सभी स्कूल 30 सितंबर से पहले लगवाएं सीसीटीवी कैमरा
शहर के सभी स्कूलों को 30 सितंबर से पहले सीसीटीवी कैमरे लगवाने के लिए कहा गया है। गाइड लाइन के मुताबिक स्कूल के एंट्री गेट, बाउंड्री वाल, रेस्ट रूम, हेल्पर रूम और स्कूल के कॉरिडोर में सीसीटीवी कैमरा इंस्टाल करना अनिवार्य है। इसके साथ ही सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को संभाल कर रखने के लिए पर्याप्त स्टोरेज सिस्टम भी बनाने के लिए कहा गया है। शिक्षा सचिव ने बैठक में डीएसई से स्कूलों की रिपोर्ट ली।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week