MP: ऊर्जा मंत्री की बेटी-बहू को करोड़ों का ठेका, सवाल किया तो बोले बैठकर बात कर लेंगे

Monday, September 18, 2017

भोपाल। यदि कोई मंत्री अपने ही विभाग में अपने रिश्तेदारों को ठेके दिलवाए तो इसे भाजपा की नीति के अनुसार भ्रष्टाचार माना जाता है परंतु मध्यप्रदेश में ऊर्जा मंत्री पारसचन्द्र जैन की बेटी पूजा तलैरा और बहु स्वाति मोगरा की कंपनी इन्फिनिट एनर्जी सोल्यूशन्स को ऊर्जा विकास निगम की ओर से करोड़ों का ठेका दिया गया है। पूछने पर मंत्री पारस जैन का कहना है कि मेरी बेटी बिजनेस करना चाहती है तो क्या गलत है। साथ ही वो यह भी कहते हैं कि फिलहाल खबर छापने जैसा कुछ नहीं है, जल्द ही भोपाल आ रहा हूं, मिलकर बात करेंगे। बताया जा रहा है कि ऊर्जा विकास निगम के अधिकारियों ने इस ठेके के लिए टेंडर प्रक्रिया को पद का दुरुपयोग करते हुए बाधित किया। पत्रकार श्री ह​रीश दिवेकर ने इस मामले का खुलासा किया है। पढ़िए हिंदी अनुवाद सहित उनकी रिपोर्ट: 

मध्यप्रदेश के ऊर्जा एवं नवीन व नवकरणीय ऊर्जा मंत्री पारस चन्द्र जैन ने अपनी बेटी पूजा तलैरा और बहु स्वाति मोगरा की इन्फिनिट एनर्जी सोल्यूशन्स को ऊर्जा विकास निगम से उज्जैन संभाग में रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाने के लिए करोड़ों के ठेके दिलवाए हैं। इतना ही नहीं इंदौर डिविजन में रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाने के लिए मध्य प्रदेश पश्चिम क्षेत्र विधुत वितरण कंपनी लिमिटेड (एमपीपीकेवीवीसीएल) इंदौर में कंपनी का इम्पेनलमेंट करवाया। 

मजेदार बात यह है कि मंत्री की बेटी और बहु की कंपनी इंफिनिट एनर्जी सोल्यूशन्स को ठेका देने के लिए ऊर्जा विकास निगम व्दारा 25 जून 2016 को जारी किए गए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) टेंडर को कैंसिल करवा दिया। कारण कि उनके बेटी-बहु की इंफिनिट कंपनी इसमें पार्टीसिपेट नहीं कर पाई थी। इंफिनिट कंपनी का मप्र के सेल्स टैक्स डिपार्टमेंट में 19 जुलाई 2016 को टिन नंबर का रजिस्ट्रेशन होने के बाद ऊर्जा विकास निगम ने 4 दिन बाद 23 जुलाई 2016 को फिर से टेंडर जारी किया, लेकिन इंफिनिट कंपनी के डाक्यूमेंटस पूरे न होने के कारण निगम को टेंडर को लेट करने के लिए दो बार भूल सुधार जारी किए गए। इसी बीच एमएनआरई की नई गाईड लाईन आने के बाद निगम ने नए सिरे से टेंडर जारी किया। 

अप्रैल 2017 में मंत्री की कंपनी इंफिनिट को 4 से 10 मेगावाट के रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाने के लिए एल-1 में सिलेक्ट करते हुए 350 किलोवाट के प्रोजेक्ट दिए गए। यह सभी प्लांट उज्जैन संभाग के एरिया में दिए गए। इसी बीच मंत्री ने इंदौर बिजली कंपनी में इंफिनिट का इम्पेनलमेंट करवाकर यहां भी काम दिलवा दिया।

इसमें खबर जैसा कुछ नहीं है, भोपाल आ रहा हूं, बैठकर बात कर लेंगे
प्रश्न- आप पर आरोप है कि आपने पद का दुरूपयोग कर बेटी-बहु की कंपनी को अपने विभाग में ठेका दिलवाया है।
उत्तर- गलत आरोप है। मैंने कोई दवाब नहीं बनाया, उन्होंने ऑनलाईन टेंडर में पारदर्शी तरीके से ठेका लिया है।

प्रश्न- यह भी आरोप है कि बेटी-बहु की कंपनी को ठेका दिलाने के लिए आपने दो माह तक टेंडर नहीं खुलने नहीं दिया।
उत्तर- यह भी गलत है, निगम की अपनी प्रोसेस है कंपनियों को डाक्यूमेंट पूरे करने का मौका दिया जाता है। मैंने किसी को टेंडर खोलने से नहीं रोका।

प्रश्न- मंत्री लोकसेवक के दायरे में आता है। ऐसे में आप जिस विभाग के मंत्री है उसी में बेटी-बहु को ठेका दिलाना भ्रष्टाचार की श्रेणी में आता है। 
उत्तर- आप बेवजह बात को तूल दे रहे हैं। इसमें खबर जैसी कोई बात नहीं है। मेरी बेटी बैंगलोर से पढ़ कर आई है बिजनेस करना चाहती है तो क्या गलत है। मैं अभी प्रभार के जिलों की बैठक ले रहा हूं, 19 सितंबर के बाद भोपाल आता हूं, हम बैठकर कर बात कर लेंगे।

हमे नहीं पता मंत्री के बेटी की कंपनी है
मनु श्रीवास्तव, एमडी ऊर्जा विकास निगम, प्रिंसिपल सेक्रेटरी न्यू एंड रिन्यूवेबल एनर्जी डिपार्टमेंट का कहना है कि आप कह रहे हैं इसलिए हमें पता चला कि इंफिनिट एनर्जी सोल्यूशन्स मंत्री पारसचन्द्र जैन के बेटी की कंपनी है। हमारे यहां तो ऑनलाईन टेंडर में जो क्वालिफाई उसका टेंडर निगम के बोर्ड ने फाईनल किया। टेंडर में प्रावधान था कि जिन कंपनियों के डाक्यूमेंट अधूरे रह जाएंगे उन्हें पूरा करने का टाईम दिया जाएगा। इसलिए हमने टेंडर की तीन बार डेट बढ़ाई थी।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Trending

Popular News This Week