चीन के इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर भारतीय यात्रियों का अपमान

Sunday, August 13, 2017

नई दिल्ली। आरोप सामने आया है कि शंघाई पुडॉन्ग इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस के कर्मचारियों ने भारतीय यात्रियों का अपमान किया। शिकायतकर्ता का कहना है कि शायद वो भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद के कारण भारत के यात्रियों से नाराज थे और उन्हे अपमानित कर रहे थे। शिकायतकर्ता ने इंडियन फॉरेन मिनिस्ट्री से शिकायत की है, जिसके बाद इस मामले को चीन के सामने उठाया गया। चीन शिकायत को खारिज कर दिया है। 

यात्री ने अपनी शिकायत में कहा, "एयरलाइन स्टाफ की बॉडी लैंग्वेज से लगा कि वह दोनों देशों के बीच बढ़ते सीमा विवाद से हताश था, इसीलिए ऐसी घटना हुई। एयरलाइन मैनेजमेंट ने आरोपों को खारिज किया है। बता दें कि सिक्किम सेक्टर के डोकलाम एरिया में करीब 2 महीनों से दोनों देशों की सेना आमने-सामने है। ये इलाका एक ट्राई जंक्शन (तीन देशों की सीमाएं मिलने वाली जगह) है। चीन यहां सड़क बनाना चाहता है, लेकिन भारत और भूटान इसका विरोध कर रहे हैं। एयरलाइन ने कहा- घटना की रिपोर्ट फैक्ट्स से मेल नहीं खाती...

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक सोर्सेज ने बताया है कि यह मामला सुषमा स्वराज की नोटिस में आने के बाद इसे चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के तहत आने वाले शंघाई फॉरेन अफेयर्स ऑफिस और पुडॉन्ग एयरपोर्ट अथॉरिटीज के सामने उठाया गया। उधर, चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ ने शनिवार रात कहा कि चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस ने भारतीयों से बदसलूकी के आरोप को गलत बताया है। एयरलाइंस ने अपने बयान में कहा है कि चेकिंग से जुड़े मैटीरियल्स और एयरपोर्ट की CCTV फुटेज की जांच के बाद यह पाया गया है कि घटना की रिपोर्ट फैक्ट्स से मेल नहीं खाती है।

यात्रियों को क्वालिटी सर्विस देने का दावा
एयरलाइन ने अपने बयान में कहा है कि हमारे इम्प्लॉईज ने भारतीयों को बेहद सावधानी से सर्विस की पेशकश की थी। कंपनी ने यह दावा भी किया कि एयरलाइंस यात्रियों को क्वालिटी सर्विस मुहैया कराने के लिए पूरी दुनिया में मशहूर है।

यात्री ने शिकायत में क्या कहा?
हाल ही में मीडिया रिपोर्ट में कहा गया था कि सतनाम सिंह चहल नाम के पैसेंजर ने सुषमा स्वराज को इस घटना को लेकर लेटर लिखा था। चहल नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर हैं। उन्होंने चाइना ईस्टर्न एयरलाइंस की फ्लाइट से 6 अगस्त को नई दिल्ली से सैन फ्रांसिस्को तक की यात्रा की थी। ये फ्लाइट शंघाई पुडॉन्ग इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर रुकी थी, जहां से चहल ने इसी कंपनी की दूसरी फ्लाइट सैन फ्रांसिस्को के लिए पकड़ी। चहल ने अपने लेटर में कहा, "प्लेन के एग्जिट गेट से निकलते वक्त मैंने नोटिस किया कि ग्राउंड स्टाफ भारतीय यात्रियों का अपमान कर रहा था। जब मैंने इसकी शिकायत एयरलाइंस से की तो उसके ऑफिशियल्स मुझ पर चिल्लाने लगे। उनकी बॉडी लैंग्वेज से लगा कि वे भारत-चीन के बीच बढ़ते सीमा विवाद से हताश थे।

भारतीय चीन की यात्राओं से बचें 
चहल ने सुषमा को लेटर में ये सलाह भी दी कि वे एक एडवाइजरी जारी करें कि भारतीय, चीन होकर यात्रा करने से बचें। बता दें कि पिछले महीने चीन ने अपने सिटीजंस को एक सेफ्टी एडवाइजरी जारी कर कहा था कि वे भारत में अपनी सुरक्षा पर ध्यान दें और सतर्कता बरतें क्योंकि चीन विरोधी मानसिकता के लोग उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


Popular News This Week

खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं