हितग्राहियों का इतना पेट भर रहे हैं कि हर सीट पर 15 हजार वोट पक्के: नंदकुमार

Sunday, July 23, 2017

भोपाल। भाजपा प्रदेश कार्यसमिति बैठक में शनिवार को प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि इंदिरा गांधी ने गरीबी हटाओ नारा दिया और 5 से 10 हजार का लोन देकर पांच बकरियां खरीदने और भैंस खरीदने की सलाह दी। पांच बकरियों से पांच बार सरकार भी बनाई। हमने डेढ़ से ढाई लाख लोन दिया। घर दिए। गैस कनेक्शन दे रहे हैं लेकिन मार्केटिंग नहीं कर पा रहे। जनता का माइंडसेट ही नहीं बन पा रहा। पहले दिल्ली कांव-कांव करती थी तो नीचे तक यही होता है। हम नहीं कर पा रहे। हितग्राहियों का इतना पेट भर रहे हैं कि प्रत्येक विधानसभा में 15 हजार वोटर से ही हमारी शुरुआत होगी। मार्केटिंग से मत चूको। कांग्रेस के नेताओं से शिवराज सिंह अकेले ही लड़ लेंगे लेकिन जमीन पर हमें जाना होगा। 

डीजल का मुद्दा उठाया तो चुप करा दिया
कार्यसमिति में रमेश पटेल ने सवाल उठाया कि मप्र में डीजल अन्य राज्यों के मुकाबले 4 रुपए महंगा है। उनके यह कहते ही नंदकुमार सिंह ने उन्हें टोकते हुए बिठा दिया। इससे पहले हर्षवर्धन को भी नंदकुमार ने बोलने से रोका। हालांकि उन्होंने अपनी बात रख दी। 

कविता ने कृषि प्रस्ताव रखा 
कविता पाटीदार ने कृषि प्रस्ताव रखा। इस पर जबलपुर के शिव पटेल ने कहा कि हम भले ही गांवों में किसानों को 10 घंटे बिजली देने का दावा करें करें, बमुश्किल 4 से 6 घंटे मिल रही है। बिजली कंपनी के अधिकारी किसानों के मुंह पर बोल देते हैं कि बिजली है नहीं तो कहां से दें। 

क्यों हुआ आंदोलन-गोलीकांड, इसकी जांच हो: विक्रम वर्मा 
पूर्व केंद्रीय मंत्री विक्रम वर्मा ने कहा कि किसान आंदोलन और गोलीकांड क्यों हुआ, असंतोष कैसे पनपा, पार्टी को अपने स्तर से एक कमेटी बनाकर इसका अध्ययन करना चाहिए। अगली कार्यसमिति में इस रिपोर्ट पर चर्चा हो। ताकि भविष्य में ऐसा न हो। साथ ही स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट एक तरफ रखकर स्टडी रिपोर्ट बनवाएं। हमने किसानों के लिए क्या किया वह उसमें दिया जाए। प्याज के मामले में वर्मा ने कहा कि यदि आंदोलन इसी तरह रहता तो यह 1984 के दंगों से बड़ा हो जाता। मप्र से राजस्थान और छग के साथ पूरे देश में फैलता। मुख्यमंत्री ने इस रोकने में अभूतपूर्व काम किया। प्याज खरीदी का निर्णय लिया। 

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

CHOOSE YOUR FAVOURITE NEWS CATEGORY | कृपया अपनी पसंदीदा श्रेणी चुनें


खबरें जो आज भी सुर्खियों में हैं

Popular News This Week