किसानों ने कलेक्टर की कार के सामने फेंक दी प्याज

Tuesday, June 20, 2017

रायसेन। सीएम शिवराज सिंह ऐलान कर रहे हैं कि एक एक प्याज खरीदी जाएगी और यहां तीन-तीन दिन तक प्याज की तुलाई नहीं हो पा रही है। अंतत: किसानों के सब्र का बांध टूट गया और मंगलवार 20 जून को किसानों ने कलेक्टर की कार के सामने प्याज फेंककर अपना विरोध दर्ज कराया। जनसुनवाई के दौरान कलेक्टोरेट पहुंचे किसानों ने पहले एसडीएम वरुण अवस्थी को अपनी परेशानी सुनाई। इसके बाद एसडीएम दो किसानों को अपने साथ लेकर जनसुनवाई में बैठे एडीएम जैन के पास ले गए। जब उनसे कोई समाधान नहीं हुआ तो वे कृषि उपज मंडी पहुंचे और वहां से प्याज की बारियां लाकर कलेक्टर भावना वालिंबे के कार के सामने उड़ेल कर अपना विरोध दर्ज कराया। वहीं, दूसरे और जनसुनवाई अपनी समस्याएं लेकर आई ग्रामीण महिलाओं ने जब प्याज सड़क पर पड़ी हुई देखी तो उन्होंने समेटकर अपने थैलों में भर ली।

किसान हो रहे हैं परेशान
शहर से किलोमीटर दूर धामधूसर गांव से आए किसान बालकृष्ण के मुताबिक वे एक दिन के लिए 2500 रुपए के भाड़े पर ट्रैक्टर-ट्राली लेकर प्याज बेचने के लिए कृषि उपज मंडी में आए। उन्हें तीन दिन मंडी में आए हुए हो गए। प्रतिदिन के हिसाब से एक हजार रुपए का भाड़ा बढ़ता जा रहा है। इस हिसाब से उन्हें मात्र भाड़े के ही साढ़े पांच हजार रुपए चुकाना होंगे।

धनोरा के किसान कन्हैलाल, पैमद के विकाश समाधिया,वार्ड 18 में रहने वाले रघुवीर पटेल के मुताबिक वे शुक्रवार के दिन से कृषि उपज मंडी में बनाए गए प्याज खरीदी केंद्र पर अपनी प्याज बेचने के लिए आए हैं। 

शहर की सब्जी मंडी के थोक व्यापारी ग्रामीण क्षेत्रों से सस्ती प्याज खरीदकर ला रहे हैं। और सरकारी खरीदी केंद्र पर सेटिंग कर रात को प्याज तुलावाकर दोगुना मुनाफा कमा रहे हैं।

रात भर कृषि मंडी में बैठने तैयार हूं
डीएमओ विनोद उपाध्याय कहते हैं कि हमनें प्याज परिवहन के लिए जिला नागरिक आपूर्ति निगम से 30ट्रकों के मांग की है लेकिन 11 ही मिल पाए। हम तो रात भर कृषि उपज मंडी में बैठने के लिए तैयार हैं। लेकिन क्या करें। जो ट्रक दूसरे खरीदी केंद्रों से मूंग और तुअर लेकर आ रहे हैं वही ट्रक खाली होकर प्याज लेकर नरसिंहपुर जा रहे हैं। इसलिए परिवहन की परेशानी बनी हुई है।

खाली करा रहे टीन शेड
कृषि उपजमंडी सचिव नरेश परमार के मुताबिक प्रतिदिन करीब 2हजार क्विंटल प्याज कीप्याज की आवक हो रही है जबकि 600 क्विंटल प्याज का ही एक दिन में परिवहन हो पा रहा है। इसलिए किसानों की प्याज उतारने के लिए खाली जगह की कमी आ गया है। टीन शेड प्याज से भर गए हैं। इसलिए प्याज खाली कराने के लिए जगह की कमी हा गए है।

प्याज की चल रही खरीदी
कलेक्टर भावना वालिंबे कहती हैं कि जिले भर में बनाए गए सरकारी खरीदी केंद्रों पर इन दिनों अरहर,उड़द,मूंग और प्याज की खरीदी एक साथ की जा रही है। इसिलए परिवहन की समस्या आ रही है। इसके चलते किसानों को परेशानी हो रही है। हमनें प्याज परिवहन के लिए वाहनों की संख्या बढ़वाई है।

SHARE WITH YOU FRIENDS

-----------

Trending

Popular News This Week